इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

सेवा की ताकत

आत्माराम कोशा ' अमात्य '
सेवा चाहे किसी भी क्षेत्र का हो, इसमें नेकी का होना उतना ही आवश्य क है जितना मंदिर में देव प्रतिमा का. इससे ही इसकी प्रतिþा में वृद्धि और समृद्धि होती है. नेकी कर दरिया में डाल की कहावत आपने सुनी ही होगी. अब ये कहावत आउड आँफ डेट हो चुकी है. आजकल नेकी को ताकत में ढ़ाल का दौर च ल रहा है. इस नये ब्रा·ड की कहावत को थोक के भाव में नये - नये उभर कर आ रहे समाजसेवियों के हुजूम ने बड़ी ही सिद्दत से अपनाया है. और अपनाये भी यिों न ...? इस मल्टी बिटामिन सेवा नामक केप्सूल का सेवन हर Òýि से फाय देमंद जो है. इसमें सक्म्मश्रित शिलाजीत के स्तर का नेता नामक तत्व सभी तत्वों पर भारी पड़ता है. अत: ज्यादातर लोग इस दिशा में खींचे च ले आते हैं.
सेवा में नेकी का साथ चोली और दामन का रहा है. नेकी और पुछ - पुछ इसीलिए जग जाहिर है. सेवा की इस नेकी का ने और इससे प्राÄ होने वाली ताकत का ता जब मिलकर एक हो जाते हैं तब नेता नामक एक नये तत्व का उदय  हो जाता है. जैसे गंगा - जमुना दो नदियों के मिलन से सरस्वती का उद्भव हो जाता है वैसे ही नेता नामक तत्व पैदा हो जाता है. य ह एक ऐसा तत्व है जिसके आगे देवता, दानव, य क्ष, गंधवर्, किÛर किसी की नहीं च लती. इसीलिए इस क्षेत्र को गहरा आशय  वाला समझा जाता है. और तत्संबधित समाजसेवी को महाशय .
एक आदमी ऐसी ही छोटी - छोटी सेवा करते - करते कब नेता बन बैठा , पता ही नहीं च ला. उसकी दुकानदारी धड़„े से च ल निकली. वैसे भी बात दोनों एक ही है कि समाजसेवा करते - करते नेतागिरी भी कर ली जाय  या नेतागिरी के साथ - साथ समाजसेवा, दुकानदारी च ल ही निकलती है.
इस सेवा में आकर नेता जी का ध्यान बटोरू नीति, उँटपटाँग हरकत एवं अनाप - शनाप कायोY से तंग आ कर नेकी के ने ने नेता जी से वैसे ही बगावत कर ली जैसे संयुI प्रगतिशील गठबंधन सरकार में शामिल सहयोगी दलों ने कर ली. डूबते जहाज को देखकर चूहे जैसे किनारा कर लेते हैं वैसे ही ने ने नेता जी से किनारा काट लिया. नेता जी बगैर ने के घोर संकट में आ गये. सैनिक ताकत के ता के भरोसे कब तक टिका रहा जा सकता है. सैनिक ताकत के भरोसे पाकिस्तान का यिा हाल हो गया, इससे सभी परिचि त है. हमारे देश ने भी आपातकाल की ताकत को देखा और भोगा है सो, नेता जी ताकत के सहारे अपना प्रभाव कब तक क्स्थर रख पाते अत: ने के बगैर अपाहिज नेता जी सपा की तरह दूसरे सहारा पाने की सोंची. जुगाड़ करने में सिद्धहस्त नेता जी जी - जान से जूट गये, इस काय र् में. सबसे पहले तो वह जनता को नोंच  खाने वाले अपने बड़े - बड़े नाखूनों को रंगने यानि उसकी असलिय त छुपाने (जैसे कि उसकी फितरत होती है) नेल पाँलिश की दुकान में गया. वहां उन्होंने दुकानदार से नेल पाँलिश के नेल से सिफर् ने शबद को मांगा. दुकानदार ने कहा - महोदय , य दि मैं नेल से ने को तुम्हें दे दिया तो मेरे पास खाली ल भर रह जायेगा. इस तरह ल से मैं लच र हो जाऊंगा. मैं आपको ने नहीं दे सकता. य दि पाँलिश चाहिए तो शौक से ले जा सकते हैं वह आपके फितरत की चीज है. ने को ले जाकर और ल को छोड़कर हमें ल से लंगड़ा मत बनाओ. कृपया बेहतर होगा आगे च ले जाओ.
ने प्राÄ करने में असफल नेताजी नेच रवादियों की दुकान की ओर रूख किया. उनकी नेच र के अनुसार उनकी विचारधारा में अच्छी तरह जुड़ गये. बात ही बात में उनसे य ही फरमाईश कर डाली. उन्होंने कहा - देखिए महाशय , नेच र में काफी अनबैलेन्स उत्पÛ हो गया है. हम उसे संतुलित करने में जुटे हैं. यिोंकि आप जैसे ने इस धरती को जी भर कर खसोटे लूटे हैं. हम इसका संरक्ष्ाण चाहते हैं. आप चाहे तो हमारी बड़ी - बड़ी धुँआ उगलती फैटिरियों को हस्तगत कर ले. हमारी ट¬कें, कारें, बाईक, कम्प्युटर, मोबाइल जो चाहे जÄ कर ले. पर ने को न मांगे. इसके बिना हम रह जायेंगे अभागे. बगैर ने के हम च र ही रह जायेंगे. हमें व तुम्हारे कुल के चारा खाने वाले व्य Iि में यिा अंतर रह पाएगा ? अत: हमें आप माफ करो. य ह च रने - विच रने वाला रास्ता ही साफ करो.
देश भर में कही भी दाल न गलती देख नेताजी नेपाल की ओर उड़ गये. उसकी गिद्ध Òýि नेपाल के ने की ओर टिकी थी. वहां पहुंच कर उन्होंने वहां की सरकार से हाथ मिलाया. तुरंत ही अपने आने का सबब बताया. ने की मांग सुन वे सब परेशान थे. उसके छोड़ बांकी सब कुछ देने को आसान था. वे कहे - ने के बगैर हम केवल पाल ही रह जायेंगे. क्षमा करें, हम आपको ने नहीं दे सकते.
प्रच ·ड गुस्से से भरे बगैर ने के नेता जी का पूरा शरीर दहल गया. ताकत के बेजा इस्तेमाल का उसे पता च ल गया. फिर भी उसने हिम्मत नहीं हारी. भारत - नेपाल सीमा पर जानवर च रा रहे च रवाहे पर नजर डाली. वह गाय  च राते - च राते नेवई घुमा रहा था. साथ ही साथ कुछ गुनगुना रहा था. नेताजी झट उसके पास गया. पहले तो उसे खूब भुलराया. च रवाहे को कुछ भी समझ नहीं आ रहा था. नेता ने नेवई की ओर ऊंगली दिखाया. कहा - इसे तुम मुझे दे दो. इसे मैं काटकर अपने में लगाऊंगा और पूरे का पूरा नेता बन कहलाउंगा . च रवाहे ने समझा - ये मुझे गाली दे रहा है. उसने आव देखा न ताव. नेताजी को नेवइच  नेवई जमकर सोंटा. नेता को प्राण बचाकर भागना पड़ा. मार की पीड़ा से उसे कई रात जागने पड़े. नेवई की मार ह·टर से कुछ कम नहीं थी. पर उसे इसका इतना गम नहीं था जितना नेवई से ने नहीं मिला. उस दिन से बगैर ने नेकी के नेता आज भी भटक रहा है. ताकत व खुरापाती के बल पर आज भी करोड़ों गटक रहा है. हर जगह उसे मार मिल रही है. कहीं जूटा, कहीं च प्पल, कहीं खड़ाऊ, कहीं पत्थर और कहीं दुत्कार मिल रही है. फिर भी वह नहीं चेता है. यिोंकि वह बगैर ने के नेकी रहित नेता है. समाजसेवा की आड़ में आज भी वह जी रहा है. कितनों का वह खून निचोड़ रहा है और पी रहा है. वह अच्छी तरह जानता है कि सेवा के पैर को टिकने के लिए पीड़ा की जमीन चाहिए. उसे जहां - तहां बेबसी के सीन चाहिए. जब तक इस देश में गरीबी, भूखमरी, लाचारी, बेरोजगारी रहेगी, समाजसेवियों को इसी तरह सहेगी. उन्हें मालूम है कि सेवा सदैव अपने किये का मूल्य  चाहता है इसीलिए तो इन लोगों का एक काय र् रखैल की तरह है और एक बयाहता है.

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें