इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शुक्रवार, 29 फ़रवरी 2008

लोकगाथा पंडवानी में श्रीकृष्ण

डां. पीसीलाल यादव
भारतीय लोक जीवन सदैव से ईश्वर और धर्म के प्रति आस्थावान रहा है। निराभिमानी और निश्चल जीवन लोक की विशेषता है फलस्वरूप उसका जीवन स्तर सीधा - सादा और निस्पृह होता है। उसकी निस्पृहता और उसकी सादगी लोक धर्म की अभिव्यक्ति लोक साहित्य कहलाता है। लोक देखने में जितना अनगढ़ और अशिष्टï लगता है, वह अंदर से उतना ही सुन्दर और शिष्टï होता है। शिष्टï हो या विशिष्टï हो वह तो लोक की बुनियाद पर ही अविलंबित है। लोक प्रकृति का संरक्षण ही नहीं उसका संवर्धन भी करता है। वह इसलिए क प्रकृति भी लोक के लिए ईश्वर का रूप है। सूर्य,चन्द्रमा, ग्रह,नक्षत्र, तारे, वृक्ष, पर्वत, नदी, समुद्र सब में लोक ईश्वर के दर्शन करता है। प्रकृति के प्रति लोक का प्रेम और समर्पण लोक जीवन का आदर्श है। लोक के अपने देवी देवता है। ये देवी - देवता लोक जीवन के आराध्य हैं उनकी उपस्थिति व्यक्तिगत, पारिवारिक और सामुदायिक कार्यों में सहज रूप से दृष्टिïकोचर होती है। लोकगीत, लोककथाएं और लोक गथाएं इन लोक देवताओं की अभ्यर्थना, प्रार्थना और गुनगान से आप्लावित है।
छत्तीसगढ़ का लोक मानस श्रम परिहार के लिए जहां लोक गीतों में नाचता गाता है। वहीं लोक कथाओं और लोक गाथाओं के माध्यम से मनोरंजन के साथ - साथ शिक्षा ग्रहण करता है। लोक गाथाएं लोक जीवन का महाकाव्य कहलाती है। लोक कंठ से उत्पन्न लोक गथाएं लोक निधि हैं। पीढ़ी दर पीढ़ी वाचिक परम्परा के द्वारा ये लोक गाथाएं अवरित होती रहती है। पाश्चात्य विद्वानों ने लोकगाथा को बैलेड कहा है। बैलेड के संबंध में फें्रच सिजविक लिखते हैं - सरल वर्णनात्मक गीत, जो लोक की संपत्ति हो और जिसका प्रचार मौखिक रूप से हो वह बैलेड है। जिसका रचयिता अज्ञात तथा वह सम्पूर्ण समाज की संपत्ति है।
छत्तीसगढ़ में अनेक लोक गाथाएं गायी जाती है। पंडवानी, चन्दैनी, ढोला - मारू, गोपी - चंदा, भरथरी, दसमत कैना आदि। इन सभी लोक कथाओं में पंडवानी सर्वाधिक लोकप्रिय है। पंडवानी गायन की दो शैलियां हैं - 1. कापालिक और 2. वेदमती। कापालिक शैली के पंडवानी गायन में दंत कथाएं अर्थात लोक कल्पित कथाएं गायी जाती है। जबकि वेदमयी गायन शैली में कथाएं शास्त्र सम्मत और वेदोक्त होती है। पंडवानी गायन में तम्बूरा और करताल मुख्य लोक वाद्य होते हैं। किन्तु अब समय गत वादï्यों हारमोनियम, तबला, ढोलक, आदि का भी प्रमुख वाद्ïय के रूप में प्रयोग होता है। पंडवानी गायन की कापालिक शैली लगभग विलुप्त हो चुकी है। वेदमती शैली के पंडवानी गायन श्री सबल सिंह चौहान रचित महाभारत के आधार पर अपना गायन प्रस्तुत करते हैं। पंडवानी महाभारत का लोकरूप है। इसलिए महाभारत की कथा होते हुए भी पंडवानी में लोक का लालित्य और लोक की सोंधी महक अधिक है। कथानक पात्रों की दृष्टिï से कथानक और पात्रों की दृष्टिï से भी पंडवानी में प्रभा मंडल है। लोक की कल्पनाएं, लोक का विश्वास, लोक का चरित्र, लोक का औदार्य और लोक का आदर्श पंडवानी की प्रभुता है।
मैंने प्रारंभ में ही उल्लेख किया है कि लोक के अपने - अपने देवी - देवता हैं। भारतीय जीवन में शिव, राम और कृष्ण सर्वमान्य और सर्वव्यापक है। इनके शिष्टï और लोक दोनों ही रूप हमें दिखाई पड़ते हैं। लोक की व्यापकता शिष्टï से अधिक है। इसीलिए इन देवों का लोक रूप ही लोक जीवन में ज्यादा पूज्यनीय और माननीय है। शिव तो भोले कहलाते हैं। उनका रूप बिल्कुल लोक की तरह भोला - भाला है। राम मर्यादा पुरूषोत्तम है। लोक मर्यादा से बंधे हुए है। उनके चरित्र में लोक की प्रतिष्ठïा और लोक का मंगलकारी बंधन है। कहीं उच्छंखलता नहीं है। जबकि श्री कृष्ण के चरित्र में नटखटपन है। बाल लीलाओं से लेकर माखन चोरी, चीरहरण और रास रचना तक  इस चरित्र के कारण श्रीकृष्ण लोक में ज्यादा रच बस गये। गोवर्धन उठाकर जहां श्रीकृष्ण कृषकों के हित संवर्धक और पूज्यनीय हो गए, वहीं महाभारत मे अर्जुन के सारथी बनकर तथा गीतोपदेश देकर अध्यात्म और जीवन दर्शन के सूत्रधार कहलाए। महाभारत में उनके दिव्य रूप और दिव्य कर्म दोनों के दर्शन होते हैं।
पंडवानी छत्तीसगढ़ का लोक महाकाव्य है। पंडवानी गायन में प्रारंभ से लेकर अंत तक श्री कृष्ण की महिमा का गान होता है। जहाँ श्रीकृष्ण महाभारत के सूत्रधार, अर्जुन के सारथीं वही पंडवानी गायन के वे आराध्य हैं। पंडवानी की कथाओं में श्री कृष्ण का चरित्र का गान तो हुआ ही है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि पंडवानी गायन का प्रारंभ श्रीकृष्ण की वंदना से होता है। यह क्रम कथा के बीच - बीच में और कथा के अंत चलते रहता है - बोलो वृन्दावन बिहारी लाल की जय।
श्याम सुखदाई मोर हरधर भाई ग।
भजन बिना मुक्ति नई होय भाई ग।
भजन बिना मुक्ति नई होय भाई ग॥
पंडवानी में पात्रों की बहुलता है। महाभारत का नायक अर्जुन है और पंडवानी का नायक भीम। अर्जुन की अपेक्षा भीम का चरित्र पंडवानी में अधिक मुखर हुआ है। श्री कृष्ण महाभारत और पंडवानी दोनों मे सूत्रधार के रूप में दिखाई पड़ते हैं। पंडवानी का प्रत्येक पात्र चाहे वह पांडव पक्ष का हो या कौरव पक्ष का अपने आप में महत्वपूर्ण है। नायकत्व की दृष्टिï से भी प्रसंगानुसार उनमें सारे गुण मौजूद है पर महाभारत हो या पंडवानी सारे पात्रों में श्रीकृष्ण की अलग छवि है। वे साधारण मानव न होकर पूर्णतम पुरूषोत्तम भगवान है, नारायण के ही अवतार है। उनकी श्रेष्ठïता महाभारत के राजसूय यज्ञ प्रसंग में भीष्म पितामह के इस कथन से सिद्ध होती है - मैं तो भूमंडल पर श्रीकृष्ण को ही प्रथम पूजा के योग्य समझता हूं -
कृष्ण एव हि लोकानामुत्पत्तिरपि चाप्यम:
कृष्णस्य हिकृते विश्वविदं भूतं चराचरम।
एव प्रकृतिरत्मयता कर्ता चैव सनातन :,
परश्च सर्व भूतेभ्यस्तस्मात पूज्यतमो हरि:।
महाभारत : गीता प्रेस श्लोक 23 - 24 पृष्ठï - 780
पंडवानी गायन वाचिक परम्परा द्वारा संरक्षित है। पंडवानी का कोई मूल ग्रंथ उपलब्ध नहीं है। इसका गायन महाभारत के आधार पर ही किया जाता है। इसीलिए कथाओं में साम्यता है। अगर कहीं वैषम्यता है तो वह लोक के प्रभावी स्वरूप के कारण है। श्रीकृष्ण के बाल चित्रों का चूंकि महाभारत के कथानक से प्रत्यक्ष संबंध नहीं है, अत: श्रीकृष्ण की बाल लीलाओं का वर्णन नहीं मिलता किन्तु महाभारत के परिशिष्टï भाग हरिवंश पुराण में बाल लीलाओं का वर्णन है। महाभारत में श्रीकृष्ण के बाल चरित्र का वर्णन अन्य पात्रों के द्वारा यत्र - तत्र उल्लेखित है। यथा शिशुपाल द्वारा श्रीकृष्ण के हाथों पूतना, बकासुर, केशी, वृषासुर और कंस के मारे जाने, शकट के गिराये जाने तथा गोवर्धन के उठाये जाने का निंदा के रूप में वर्णन मिलता है।
श्रीकृष्ण पांडवों के सखा, मार्गदर्शक और हित संवर्धक है। श्रीकृष्ण की दीन दयालुता की लोक में अनेक कथाएं मिलती है। वे कृपालु हैं। अपने भक्तों की रक्षा स्वयं करते हैं। पांडव तो श्रीकृष्ण के अत्यंत सन्निकट और प्रिय थे। दुष्टï दुशासन द्वारा अपमानित द्रोपती के पुकारे जाने पर उन्होंने अलौकिक रूप से द्रोपती की लाज रखी 5
रामे ग रामे रामे ग भाई,
पापी दुसासन चीर खींचन लागे भाई,
दुरपती भंवरा कस घूमन लागे भाई।
द्रोपती अपने पतियों और सभा में उपस्थित लोगों से किसी प्रकार की सहायता न पाकर उनकी चुप्पी देख सजल नयनों से श्रीकृष्ण को पुकारती है -
दुख हरो द्वारका नाथ शरण मैं तेरी।
बिन काज आज महराज लाज गई मेरी॥
पंडवों की अहित कामना से दुर्योधन द्वारा भेजे गए महर्षि दुर्वासा व उनके दस हजार शिष्यों के आतिथ्य के समय भी श्रीकृष्ण ने पांडवों की सहायता की। भगवान भास्कर से महाराज युधिष्ठिïर को एक चमत्कारी बटलोही प्राप्त हुआ था, जिसमें पकाये अन्न से असंख्य अतिथियों को भोजन कराया जा सकता था। पर ऐसा तब ही संभव था जब तक द्रोपती भोजन न कर लेती थी। दुर्योधन के दुष्चक्र से दुर्वासा मुनि अपने शिष्यों के साथ ऐसे समय पहुंचे जब द्रोपती सबको भोजन करवाकर स्वयं भोजन ग्रहण चुकी थी। इस विपरीत परिस्थिति में भी भगवान श्रीकृष्ण ने द्रोपती द्वारा स्मरण किये जाने पर स्वयं उपस्थित होकर, उस बर्तन में चिपके भाजी के एक पत्ते को मुंह में डालकर संतृप्त हो गए थे।
अहो दुरपति तोर बटलोही ल लाना ओ,
दु दिन के खाय नहीं, भूख मरत हँव ओ।
अइसे कहिके कृष्ण बटलोही ल मंगइस अऊ बटलोही में चटके भाजी ल मुंह में डार के जोर से डकार लिस।
फलस्वरूप गंगा में अधमर्षण करते मुनि दुर्वासा व उनके शिष्य भी संतुष्टï हो गए और पांडवों के क्रोध की आशंका से भाग निकले। श्रीकृष्ण अपने आश्रितों के संरक्षक हैं और उनका यही सुदर्शन चरित्र पंडवानी में दृष्टिïगोचर होता है।
श्रीकृष्ण ने महाभारत के युद्ध को टालने का प्रयास किया, लेकिन होनी को कौन रोक सकता है ? स्वयं श्री कृष्ण भी नहीं। श्री कृष्ण पांडवों की ओर से संधि का प्रस्ताव लेकर कौरव की सभा में गए। उन्होंने दुर्योधन से पांडवों के लिए केवल पांच गांव मांगे। श्री कृष्ण की मांग लोक के संतोष, लोक की उदासीनता, शांति के प्रति समर्पण और लोकजन की सहिष्णुता की परिचायक है। अपार संपत्ति का अधिकारी होकर भी अंश मात्र में संतोष कर लेना लोक का ही कार्य हो सकता है। उन्मादी दुर्योधन ने उनके नीतिपूर्ण वचनों के बदले उनसे दुर्व्यवहार कर अपमानित किया। तब श्रीकृष्ण ने अपना दिव्य - स्वरूप प्रकट किया। श्री कृष्ण के इस रूप को देखकर राजाओं ने मारे भय के आँखें मूंद ली। केवल आचार्य द्रोण, भीष्म पितामह, महात्मा विदुर, संजय और तपोधन ऋषि ही उस रूप को देख पाये। क्योंकि भगवान ने उन्हें दिव्य दृष्टिï प्रदान की थी। अपने उस दिव्य विग्रह को समेट भगवान श्रीकृष्ण सभा भवन से उठकर महात्मा विदुर के घर चले गए -
दुर्योधन के मेवा त्याग
साग विदुर घर खायो जी।
पंडवानी तो श्रीकृष्ण की महिमा और गुणगान से ओतप्रोत है। महाभारत के युद्ध में उन्होंने अर्जुन का रथ हाँक कर, सारथी बनकर पांडवों की सेवा की -
अगा कृष्ण ह रथे हांकन लगे भाई,
अर्जुन सरसर बान चलावय जी मोर भाई।
श्रीकृष्ण सत्य के संरक्षक है। आत्मग्लानि से पूरित युद्ध न करने की प्रतिज्ञा ठान लेने वाले अर्जुन को प्रेरित कर जीवन की निस्सारता व कर्तव्य परायण का बोध कराया। मोह माया से ग्रस्त पार्थ को जीवन - सत्य का संदेश दिया, जो गीता उपदेश के नाम से जाना जाता है - तू मेरा ही चिंतन कर, मुझसे ही प्रेम कर तथा सबका भरोसा छोड़कर मेरी ही शरण में ही आ जा। उनका उपरोक्त कथन भगवदï् गीता का अंतिम उपदेश है। यह उपदेश केवल अर्जुन के लिए नहीं था। यह तो समस्त लोक के लिए है। लोक की ऐसी व्यापकता, परोपकारिता है श्रीकृष्ण के चरित्र और वचनों में।
अर्जुन के बाणों में मर्माहत इच्छानुसार शरीर छोड़ने के लिए सूर्य के उत्तरायण होने की बाट जोह रहे, शर शय्या पर पड़े पितामह से धर्मोपदेश का आग्रह करते हुए श्री कृष्ण ने भीम की प्रशंसा कर कहा - तुम्हारे शरीर छोड़कर इस लोक से जाने के साथ ही सारा ज्ञान भी यहां से विदा हो जायेगा। उनकी यह उक्ति ज्ञान के समादर की पोषिका है। अत: पंडवानी के श्रीकृष्ण संहारक के साथ - साथ शांति के अग्रदूत और ज्ञान संवाहक हैं।
महाभारत युद्ध के पश्चातï् श्रीकृष्ण को सती गांधारी के क्रोध का शिकार होना पड़ा। युद्धोपरांत युद्ध में वीरगति प्राप्त करने वाले योद्धाओं को तिलांजलि देने राजा घृतराष्टï्र, पांडव व गांधारी, कुंती, द्रोपती व अन्य समस्त कुरूवंश की स्त्रियां कुरूक्षेत्र के मैदान में गए। तब गांधारी ने श्रीकृष्ण को श्राप दिया कि - श्रीकृष्ण तुम चाहते तो इस नर संसार को रोक सकते थे। लेकिन तुमने ऐसा नहीं किया। अत: जिस प्रकार कौरवों का नाश हुआ, उसी प्रकार तुम अपने स्वजनों के नाश का करण बनोगे और तुम स्वत: अनाथ की भांति मारे जाओगे। यही हुआ भी, श्रीकृष्ण चाहते तो उस श्राप को नकार सकते थे। उनका अभीष्टï पूर्ण हो चुका था। इसलिए वे यादवों के संहार का करण बने और स्वयं भी व्याध के हाथों मारे गए। लोक का नियम भला टूटता कहाँ है ? लोक के आदर्श ने लोक के नियम का पालन कर जीवन - मृत्यु के शाश्वत सत्य की रक्षा की। पंडवानी कथा का अप्रतिम उदाहरण है।
श्रीकृष्ण पंडवानी के सूत्रधार हैं। सृष्टïा व संहारक होकर भी उन्होंने सत्य का ही पक्ष लिया। शांति के अग्रदूत बने, सामर्थ्यवान होकर भी गांधारी के श्राप को साधारण मानव की भांति स्वीकार कर असाधारण होने का परिचय दिया। पंडवानी का यह नायक इन्हीं लोकधर्मी गुणों के कारण लोक के लिए पूज्यनीय हो गए। पंडवानी लोकगाथा में श्रीकृष्ण का चरित्र लोक के लिए प्रेरणा आगार है। लोक की सुदीर्घ परम्परा का पोषक तथा लोक जीवन का स्पन्दन है।
गंडई - पंडरिया
जिला - राजनांदगांव 6छ.ग.8

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें