इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

बूंद - बूंद

रमेश कुमार सोनी
एक बूंद
एक और बूंद
बूंद - बूंद पानी
गंगाजल,अमृततुल्य
सूखे कंठ, प्यासी धरती
पूर्ण संतृप्तता देती
नवजीवन संवारती
बूंद आस जगाती ।
बूंद - बूंद पानी
बारिश - बारिश
बाढ़ - कहर
सर्वत्र पानी
पानी ही पानी
जल$जला
संहारकर्त्ता बूंद ।
टप - टप - टप
टपकती बूंद
ध्रवीय हिमखण्डों से
हिमालय से ग्लोबल वार्मिंग
नदी, सागर बनकर
निगल जाने
भूमंडल
एक भयंकर चेतावनी
दूनिया की तबाही का
शेष बची है
सिर्फ - सिर्फ
बूंद - बूंद जिंदगी ॥
==000==
2
एक बूंद
फिर एक बूंद
बूंद - बूंद खून
जीवन संवारती, खुशियाँ देती
रक्तदान,रक्त संबध
घर - संसार बनाती
रिश्ते निभाती
टप - टपा - टप - टप
अविरल बहता
खून
आखिरी कतरे तक
लड़ते रहता है
फौजी बनकर
सीमा की रक्षा करने ।
खूनी आंखें, खूनी खंजर
खूनी मंजर
गर्म होता खून
उबाल मारता
सड़कों, नालियों में
बहता खून
केशरिया,हरा,नीला,सफेद ।
कई रंगों के खून
सभी मिलकर
हो जाते हैं लाल, अचिन्हे
कौन सा बूंद ?
कहाँ से टपका ?
अनूठी, अनजानी
एकता बताती खून
कतरा - कतरा खून
व्यर्थ बहते हुए भी
अपना रंग दिखा जाता है ॥
जे.पी. रोड,किसान राईस मिल के पास
बसना ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें