इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 11 सितंबर 2013

चलो गीत प्यार का गाएं

डिहुर राम निर्वाण
चलो गीत प्यार का गाएं, मन में उसे बसाये ।
स्वर से स्वर मिलाकर ,आपस में प्यार सजायें ॥
    बगिया में कूके कोयलिया,
    सुन मन उमंग भर लायें ॥
    अली का गुंजन सुन लिया,
    तितली फूल से मन रसाये ॥
चलो गीत प्यार का गाएं मन में रस बरसायें ।
पतझर पर नव कोपल लाकर नव बाहर सजायें ॥
    मंद सुगंध पवन भी बहकर,
    रजनी मुख पर ,हेम किरण लायें ।
    जन जीवन में घोल प्रेम पर
    नव जीवन अलख जगायें ॥
चलो गीत प्यार के गाएं,मन को भी सरसायें ।
जीवन की बगियाँ सजाकर,प्रेमामृत बहायें ॥
    स्वर गुंजन में विहंग वृन्द भी,
    अपने सबके संग दुलरायें ।
    जगती के सब चर - अचर भी,
    अवनि अम्बर में सुख पाये ॥
चलो गीत प्यार के गाएं, सबसे गले मिलायें ।
चहक उठेंगे समता पर, ऐसा मन अपनायें ॥
स्मृति कुटीर
भैसमुण्डी मगरलोड
पो. आ. मगरलोड, जिला - धमतरी ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें