इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

गुरुवार, 12 सितंबर 2013

सरग ह जेखर एड़ी के धोवन

पीसी लाल यादव
सरग ह जेखर एड़ी के धोवन, जग - जाहरा जेखर सोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
कौसिल्या जिहॉ के बेटी, कौसल छत्तीसगढ़ कहाइस,
सउँहे राम आके इहां, सबरी के जूठा बोइर खाइस।
मोरध्वज दानी ह अपन, बेटा के गर म आरा चलाइस,
बाल्मिकी के आसरम म, लवकुस मन ह शिक्षा पाइन।
चारों मुड़ा बगरे हे जिहॉ, सुख - सुम्मत के अंजोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
बीर नारायन बांका बेटा, अजादी के अलख जगाये,
पंडित सुन्दरलाल शर्मा, समता के दिया जलाये।
तियाग - तपस्या देस प्रेम के, कण - कण ह गीत गाये,
माटी बर जीना - मरना, जिहॉ के धरम - करम आये॥
जात - धरम के भेद नई, ठाहिल के मया के डोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
महानदी, अरपा, पइरी के, लहरा लहर - लहर लहराये,
झूम - झूम के धान बाली, सुवा, करमा - ददरिया गाये।
सिरपुर, राजिम, भोरमदेव के, पखरा हर गौरव गाये,
भेलई, कोरबा, बैलाडीला, नित नवा सुरूज उगाये।
नांगर बोहे नंगरिहा के, जांगर बांहा हवय सजोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
रिमझिम - रिमझिम सावन बरसे, मन मंजूर ह लाहके,
नंदिया - तरिया पइरी बाजय, मन मउहा कस माहके।
खेत - खार, जंगल - पहाड़, अंगरा कस परसा दाहके,
मया - पिरीत के अमरीत पी, सुवा - कोइली ह चाहके।
कबीर बानी, पंथी - पंडवानी, गूंजे गॉव गली - खोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
बड़ सरसिधवा इहाँ के मनखे, मया म घेंच कटाथे,
भुँईया म अपन ह सो के, पहुना ल पलंग सोवाथे।
सगा - पहुना तो सऊॅहत, देवता धामी कस मान पाथे,
जेन इहाँ आथे पिरित म, इहें के होके रही जाथे।
बोली बोलय मंदरस कस, मया - पिरित म चिभोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
अटकन मटकन बिल्लस बिरो, बांटी भौंरा, अल्ली दुल्ली,
गली - खोर दईहान म माते, खो - खो, कबडïï्डी, फुगड़ी।
मेला - मड़ई के मजा का कहिबे, संगी झूले ढेलुवा रहचुली,
छन - छन, छन - छन चुरी बाजे, बिजली कस लउके फुल्ली।
देवारी के दिया दुलारे, फागुन ह रंग म घोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
देवारी के दिया दुलारे, फागुन ह रंग म घोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
हिन्दु, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई, सब रहिथें जुरमिल के,
मनखे बर मया संदेसा, गीता - कुरान - बाईबिल के।
मनखे पन के मरजाद इहॉ, देखव त दरपन दिल के,
मया के फुलवारी म जम्मो, फूल महमहाथे खिल के।
परे - डरे, गिरे - अपटे ल, संगी - साथी रेंगय अगोर।
अइसन धरती हवय मोर, अइसन भुॅईया हवय मोर॥
गण्डई पण्डरिया,जिला - राजनांदगांव

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें