इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 11 सितंबर 2013

हो गे हे बिहान ..

डां. जीवन यदु
हो गे  हे बिहान, उठ मितान जाग रे ।
तोर हे बंधे सुरुज के संग भाग रे ।


बेर - बेर बेर हार गे गोहार के ।
बेर झन अबेर कर तयँ बेर ढार के ।
चल उठा गुलाल खोर के बहार के ।
भाग ल जगा - जगा रे घर दुवार के ।
बेर - बेर तयँ ये बेर झन तियाग रे ।
तोर हे बँधे सुरूज के संग भाग रे ।


हाँत - बात ल बेहाँत झन करो, मितान ।
ये बिहान ल तो रात झन करो, मितान ।
ढेर ढेरिहा के बात झन करो, मितान ।
घाम कुनकुना हे, तात झन करो, मितान ।
झन लगा मनुख के नाँव मं तय दाग रे ।
तोर हे बँधे सुरूज के संग भाग रे ।


ये समे, समे हा तोर मुँह निहारथे ।
मोर संग चल ग - कहिकें, वो गोहारथे ।
जेन ह समे के गोठ ल बिसारथे ।
तेन ल समे ह फँून के निमारथे ।
गा समे के राग मं समे के फाग रे ।
तोर ह बँधे सुरूज के संग भाग रे ।
गीतिका
दाऊ चौरा, खैरागढ़
जिला - राजनांदगांव ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें