इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 11 सितंबर 2013

होली है ... ।

होली है ... ।
संतोष प्रधान ' कचंदा'
झांझ - नगाड़े बज उठे, भींगे रंगों में चोली है।
गुंजे - गुंजन चहंू ओर, होली है भई होली है॥

पुष्पे पलाश आम्रद्रुम, बहे बसंती बयार,
धरा हरित पट ओढ़, रूप लिया निखार।
अंबर ने भी धारण किया, रंगों की रंगोली है।
गुंजे - गुंजन चहूं ओर, होली है भई होली है॥

गगन लगे मन भावन, आया बसंत बहार,
लाया रंग मस्ती भरी, होली का त्योहार।
फागुन की पावन पर्व ने, मन में मधुरस घोली है।
गुंजे - गुंजन चहूं ओर, होली है भई होली है॥

उल्लास उमंग की उर्मि उठी, अंतर उर में,
बजे नगाड़े, रंग बरसे, सारे गांव व पुर में।
ढोल नगाड़े गीतों की सबकी अपनी बोली है।
गुंजे - गुंज चहूं ओर, होली है भई होली है॥

अबीर उड़े आकाश में, गजब रंग छाये,
नाचे गाये, मौज मनाए, फगुवा गीत गाये।
रंग गुलाल लगाते, कहते सबको होली है।
गुंजे - गुंजन चहूं ओर, होली है भई होली है॥

बच्चे - बूढ़े जवान, सभी हुए मदमस्त,
होली की हुड़दंग में, भाग लिए समस्त।
बालक वृद्ध जवानों की, जाने कितनी टोली है।
गुंजे - गुंजन चहूं ओर, होली है भई होली है॥
मु. - कचंदा राजा
पो. - झरना,व्हाया - बाराद्वार
जिला - जांजगीर - चांपा  ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें