इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

जब तुम्‍हारी जिंदगी

संदीप भारती ' होरी '
जब तुम्हारी जिन्दगी
कोई नाग का वंशज डसे
गीत भर लेना अदिबो उम्र की मधु प्याली में
हर तरह का विष उतर सा जायेगा
ऑसू के संग - संग लहू की लाली में
एक नया आसव स्वत: घुल जायेगा।

जब तुम्हारी जिन्दगी टीसता हुआ कोई घॉव हो
प्यार एक उजड़ा हुआ वीरान कोई गॉव हो
प्यासे होठों पर पड़ा हो आह का सागर
तप रहे सिर से जुदा हो नम्र वक्षस्थल
ढूंढना मेरा पता अक्षर के इस संसार में
दर्द का हर द्वार खुलता जायेगा।

जब तुम्हारी जिन्दगी
भय का नया विस्तार हो
मौत को मजहब बना इंकलाब कर देना
खून की बँूदों पर ताज - ओ - तख्त क्या टिक पायेगा
बौरेगा जन का ह्रïदय फिर प्यार की अमराई में
झूमेगा मन सरसों किसी चाह की फगुनाई में।
विष्णु मंदिर के पीछे,कहरा पारा, जांजगीर,जिला - जांजगीर - चांपा

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें