इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

गुरुवार, 12 सितंबर 2013

अरज बेटी के

व्ही. पी.सिंह
बेटी बनके जनमेव मंय  हर तोरे दुआर ।
अरज तंय  सुन ले ददा, झन बोहा आंसू के धार ।।
    मुहरन हवय  मनखे के, फेर रकसा के हे गुन ।
    छोटे बड़े नता परेम , मरजाद नइये हे चि टकुन ।।
दया, धरम करम जानय  नई कोनो ।
माते हे घमंड म जानय  नई कोनो ।।
    अइसन लोभी आघु म हाथ कइसे जोरंव ।
    करम ल ठठावत जिनगी ल में हा बोरंव ।।
मोर बिहाव बर तंय  हर कहां कहां नई भटके ।
दाईज डोर के च Oर मं गाड़ी ह अटके ।
    का होगे बाबू, तोर बेटा नोहव मंय  ह ।
    बेटी होके बेटा ल कमती नोहव मंय  ह ।।
घर दुआरी पुरखा के लाज ल मंय  हर बचाहू ।
दाई -ददा भुइयां के मरजादा ल राखहूं ।।
    बेटी - बेटा म फरक ये रीत कोन च लाइस ।
    चानी - चानी मया के भेद ल बताइस ।।
दुलौरिन बेटी मंय  हर तोर गला के हार ।
अरज तंय  सुन ले ददा झन भुला आंसू के धार ।।
दीया मन के जरावत च ल
हरिनाम के भरोसे, जिनगी सजावत च ल ।
भगवान परेम पगला, धुन म अपन तंय  च ल ।।
    हे बात ये सिरतोन, बिरबिट अंधियारी रात ।
    चोरहा, लुटेरा, सबले, खुद ल बचावत च ल ।।
तंय  रद्दा मं अकेला, झन कर फिकर,
गुरू ज्ञान के बरावत तंय   च ल ।
    संसो फिकर हे सागर, जिनगी के नाव नाजुक,
    भगवान के किरपा, हांसत गावत च ल ।
दुनिया तो सिरिफ बईहा, बस चार दिन के मेला,
मन के भरम ल अपन, तंय  हटावत च ल ।
    बगरे हे चारों खूंट , माया मोह के ये च Oर,
    भगति परेम के दीया, मन के जरावत च ल ।।
से.नि. वरिþ अंकेक्षक
लिब वाडर्, महासमुन्द

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें