इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

कविता क्‍या है

 डाँ. महेन्द्र प्रतापसिंह चौहान
जिसके ऊपर जो भी बीता
जैसा बीता जब भी बीता
का बीता को स‚े दिल से
सबके सम्मुख सहज भाव से
प्रगट कराने बनती कविता ।
जो कुछ कभी न कह सकते है,
कहने में भय  में दिखते हैं,
उसको सबसे मधुर रूप में,
अपनी बात बताती कविता ।
देश कभी भी संकट में हो,
देश की जनता जो व्याकुल हो
सबको हिम्मत दे सुख देने,
सबको एक बनाती कविता ।
कविता सबसे प्रेम कराती
देश प्रेम को पास बुलाती
कितने भी जब दूर रहे तब
उनको पास बुलाती कविता
कविता सबकी, कविता में सब
कविता कहते सुनते भी सब,
सबके दिल को एक बनाती
सबके अन्तर भाव मिटाती कविता ।
सलिया पारा, भानुप्रतापपुर, जिला - को·डा (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें