इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

गीतों का सरगम


 आचार्य रमाकांत शर्मा
हर साँँसे गीतों का सरगम ।
ददर् वेदना पीड़ा साथी जिसके हर दम ।

    नय नों के झरते आँँसू ,मोती की माJा ।
    है अJ¨य , अJक्षित वंदित देने वाJा ।
गीतों से ही मिट जायेगा, कृत्रिम सब तम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    जहरीJी हो गई हवाएँँ ।
    स्वांस हीन तन अब यिा गाये  ?
द्वार - द्वार में छिपा हुआ है , नाशवान बारूदी स्वर बम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    पड़ी हुई है सुन्दर काया, ज्यों मिट्टी ढ़ेJा ।
    हा ! हा !! कार में Jगा, आँँसुओं का नव मेJा ।
कितनों को हम Jगा पायेंगे, स्नेहिJ मरहम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    गीत मेरे कुछ बाँट, सकेंगे पीड़ा निक्श्च त ।
    समझूूंगा कुछ किया है मैंने नेक जगत हित ।
अमर बेJ सम फैJा, भ्रýाचार बेसरम ।
हर साँसे गीतों का सरगम ।

    प्रेम स्नेह मानवता तो, मीठा प्रसाद है ।
    जाने वाJा च Jा गया, कुछ नहीं याद है ।
बारूदों पर जीना केवJ मन का है भ्रम ।
हर साँसे गीतों का सरगम ।
छुईखदान,
जिला - राजनांदगांव (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें