इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

गीतों का सरगम


 आचार्य रमाकांत शर्मा
हर साँँसे गीतों का सरगम ।
ददर् वेदना पीड़ा साथी जिसके हर दम ।

    नय नों के झरते आँँसू ,मोती की माJा ।
    है अJ¨य , अJक्षित वंदित देने वाJा ।
गीतों से ही मिट जायेगा, कृत्रिम सब तम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    जहरीJी हो गई हवाएँँ ।
    स्वांस हीन तन अब यिा गाये  ?
द्वार - द्वार में छिपा हुआ है , नाशवान बारूदी स्वर बम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    पड़ी हुई है सुन्दर काया, ज्यों मिट्टी ढ़ेJा ।
    हा ! हा !! कार में Jगा, आँँसुओं का नव मेJा ।
कितनों को हम Jगा पायेंगे, स्नेहिJ मरहम ।
हर साँँसे गीतों का सरगम ।

    गीत मेरे कुछ बाँट, सकेंगे पीड़ा निक्श्च त ।
    समझूूंगा कुछ किया है मैंने नेक जगत हित ।
अमर बेJ सम फैJा, भ्रýाचार बेसरम ।
हर साँसे गीतों का सरगम ।

    प्रेम स्नेह मानवता तो, मीठा प्रसाद है ।
    जाने वाJा च Jा गया, कुछ नहीं याद है ।
बारूदों पर जीना केवJ मन का है भ्रम ।
हर साँसे गीतों का सरगम ।
छुईखदान,
जिला - राजनांदगांव (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें