इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

रविवार, 15 सितंबर 2013

गरजत बरसत ...

रामकुमार साहू ' मयारु '

गरजत बरसत लहुकत हे बादर
आंखी म जइसे आंजे हे काजर
मेचका - झिन्गुरा के गुरतुर बोली
हरियर हरियर, धनहा डोली
बरसे झमाझम, गिरत हे पानी
माते हे किसानी, बइला नांगर
गरजत बरसत लहुकत हे बादर
आंखी म जइसे आंजे हे काजर
सुरूर सुरूर चले पवन पुरवइया
अंगना म फुदरे बाम्भन चिरइया
गली गली बन कुंजन लागे
विधुन होगे एकमन आगर
गरजत बरसत लहुकत हे बादर
आंखी म जइसे आंजे हे काजर
खोर गली म चिखला पानी बोहागे रेला,
कागद के डोंगी बनाय, खेले कोनो घघरइला
सुरुज देवता के परछो नई मिले
कहाँ जाके लुकागे, काबर
गरजत बरसत लहुकत हे बादर
आंखी म जइसे आंजे हे काजर
पता :
ग्राम गिर्रा - पलारी
जिला बलोदा बाजार  (छ .ग .)
9826198219

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें