इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

करवट

-  नरइंदर कुमार -
करवट बदलते यादों ने घेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
पल भर भी पलकें थमी नहीं,
निंदियां की गोद में,
तेरी जुल्फें लहराती रहीं
अंगुलियों के छोर में,
तुम्हीं बताओ यह कौन लुटेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
सारी शक्ति पैसों की हवस में,
डाल रही डेरा है,
प्यारी भक्ति विरक्त बन कहे,
अंधियारे तू मेरा है,
कौन आकर बताए मन किसका चितेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
धर्म दिखता मयखाने मे,
गिरता पड़ता रोज,
मुझको समझाने निकला आतंक,
लेकर भूखों की फौज,
इन्हें कौन समझाए किधर सवेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
भूख का नाम बताने आज,
हरा भरा उपवन नहीं,
भाकर क्या होती है जताने
सूने हाथ अब कुंदन नहीं,
सूखे दरखत कोई ढूंढता बसेरा है।
सामने और कोई नहीं तेरा चेहरा है।।
सी004, उत्कर्ष अनुराघा सिविल लाईन, नागपुर - 440001 (महा.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें