इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

इंतजार

कुहेली भट्टाचार्य
इंतजार में रहेगा सवेरा
ओस से भीगे होंठो को
भीगे ही रहने दो
धूप का पहला चुम्बन
तुम्हारा ही रहेगा।
सूरज की पहली किरण से
तुम क्यों डर गये थे ?
वह तो प्यार था !
आज का सन्नाटा तुम्हें छू जाए
तो गम न करना
कल तुम्हारा ही है
सिर्फ तुम्हारा !
बस इंतजार करना !
क्यों भूल जाते हो
उन मौसमों को
जब दीवारों में दरारें न थीं
आंखों में काजल और होठों में लाली थी
गर्मियों में पुरवाई चलती,
जाड़ों में धूप खिलती थी,
आज ओस में भीगे होंठो को
भीगे ही रहने दो
अगले मौसम में
साखें हिलेंगी, फूल खिलेंगे
मुरझायेंगी नहीं कलियां
थरथराहट दिल में लिये
इंतजार में रहेगा सवेरा।
123 ए, सुन्दरआपर्ट, जिन्बरच
नई दिल्ली - 87

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें