इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

अनुभूति, मान मर्दन

आनन्द तिवारी पौराणिक
अनुभूतिभूख की पीड़ा समझने
कतई नहीं जरुरी नौटंकी
या अभिनय
फुटपाथों, गटरों
और प्लेटफार्मों में पड़े
अभावग्रस्त,
बीमार
जीवन जी रहे लोगों को जानो
दर्द के रिश्तों को
समझकर देखो
बेबसी,
व्यथा और पीड़ा
जहां नहीं अछूती
कुलबुलाती और ऐंठती अँतड़ियों में,
करोगे तुम
सच्ची अनुभूति
मान मर्दनविष बीज बोकर
अमर फल की चाह,
क्या सोच ?
वाह्
यह तो सिर्फ भ्रम है तुम्हारा
दिवा स्वप्न, खण्डित होगा सारा
कसौटी पर कसी,
सच बात है यह
तुम अपनी स्वार्थ सिद्धि पर
जो हंसोगे
कँटीली बाड़ में तुम,
खुद ही फँसोगे,
सुनोगे, गगन का क्रूर अट्ठहास
बिखर पड़ेगा टूटकर भ्रमपान
सुनोगे, समय का गर्जन
होगा तुम्हारा मान् - मर्दन।
श्रीराम टाकीज मार्ग, महासमुन्द (छग.)  - 493445

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें