इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

मंगलवार, 10 सितंबर 2013

गाँव छोड़ के झन जा मितान

 डा.पीसी लाल यादवगाँव छोड़ के, झन जातैं मितान रे
मोर सुन लेबे तैंहा सुजान ।
मोर गाँव हे सबके परान रे
इहाँ सुख के हवय  खदान ।
    गाँव के माटी म संगी
    माटी म मिलही मुिित ।
    इही तोर सुख - सपना
    अऊ तोर हाँसी खुसी ।
तोर जिनगी के नवा बिहान रे
गाँव छोड़ के झन जा तैं मितान ।
    गाँव के मया ह मितान
    मया ह हवै अनमोल ।
    इहाँ हितु - पिरितु अऊ
    सगा सैना के मीठ बोल ।
जुड़ाथे कल्पत परान रे
गाँव छोड़ के झन जा तैं मितान ।
    गाँँव के माटी म मयारू
    माटी म पुरखा खपगे ।
    जांगर टोर महिनत कर
    करिया लोहा कस तप के ।
महिनत के  ऊँच  मचान रे
गाँव छोड़ के झन जा तैं मितान ।
ग·डई - प·डरिया, जिला - राजनांदगांव (छ.ग.)     

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें