इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 4 सितंबर 2013

डंगचगहा

 आनन्द तिवारी पौराणिक
 कुकरा बासत बड़ भिनसरहा ।
डंगनी धरे, आइस डंगच गहा ।।
ढ़म - ढ़म, ढ़म - ढ़म, ढ़ोलकी बजाइस ।
किंजर - किंजर के बड़ नरियाइस ।।
सबबो सकलाइन लीम तरी ।
सियान, जवान, मोटियारी - टुरी ।।
डंगनी म च घ गे डंगच गहा ।
रस्सी म झूलिस, अलकरहा ।।
नानुक टुरा ह ढ़ोलकी बजाइस ।
गाना गाइस अऊ चि चि याइस ।।
जम्मो देखइया तारी बजाइन ।
मंगतिन दाई किहिस - अरे डंगच गहा ।।
अइसन खेल झक करे कर रे दोखहा ।
कोनो दिन तैं धोखा खा जाबे ।
च घत - च घत, तरी म गिर जाबे ।।
अलहन ल तैं का जानबे ।
कहिदे बेटा, मोर गोठ ल मानबे ।।
डंगच गहा कथे - अओ मोर दाई ।
तोला लागत हे करलई ।।
पापी पेट बर उद्दिम करथंव ।
दु ठोमा बर, खोर - खोर घुमथंव ।।
श्रीराम टाकीज मागर्, महासमुन्द (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें