इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 12 सितंबर 2013

अमुवा म मंजरा

श्रीमती सौरिन चन्द्रसेन
अमुवा म मंजरा मता डारे या,
    मोर कोइली गजामूंग,
भंवरा ल धंवरा बना डारे।
        पागा म कलगी सजा डारे॥
काली मेंहा देखेंव, गुनगुन गावत।
    करिया ल तोर मेंहा, फूल मंडरावत॥
आज कइसन उदिम रचा डारे या
    मोर कोइली गजामूंग,
        पागा म कलगी सजा डारे॥
तोर घर म बइठे हे,
    राजा के भेस हे।
का ओखर नांव हावे,
    कोने या देस हे॥
    मोर कोइली गजामूंग
        पागा म कलगी सजा डारे॥
गाँव, गली, खेत - खार, तरिया, अमरईया।
    देसी, परदेसी, का रदï्दा रेंगईया॥
    बोली म जग ल मोहा डारे
ये दे बोली म जग ल मोहा डारे या।
    मोर कोइली गजामूंग,
        पागा म कलगी सजा डारे॥
रूप हवय सीसी रे, बोली हे सरबत।
    मया के मोहनी म, सबो हे तोर बस
    कुहुकोली म जग ला समा डारे।
कुहुकोली म जग ला समा डारे या,
    मोर कोइली गजामूंग,
        पागा म कलगी सजा डारे॥
प्राचार्य, शा.आदर्श कन्या उ.मा.वि. महासमुन्द 6 छग. 8 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें