इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 30 नवंबर 2013

नवम्‍बर 2013 से जनवरी 2014

पाठको का विचार
छत्‍तीसगढ़ी भाषा हेतु बिस्‍मार्क जैसे नायक की जरुरत / यशवंत मेश्राम                                
कापीराइट के संबंध में  
कहानी प्रतियोगिता
सम्पादकीय            
कहानी
जिंदगी की  कतरन  / गजानन माधव मुक्तिबोध      
अपना घर / ज्योतिर्मयी पन्त                
अनुवाद
विष्णु भगवान के पदचिन्ह / कुबेर          
जीत / डॉ. विजय शिन्दे               
व्यंग्य
धरती सुराज अभियान / वीरेन्द्र '' सरल ''            
लघुकथाएं
श्‍वान धर्म  / कुमार शर्मा '' अनिल ''            
आईना / सुभाष चंदर                
सीला बरहिन / सत्यभामा आडिल       
गीत / गज़ल / कविता
वफा प्‍यार से दूर  / मनोज आजिज        
सपनों का  गाँव / इब्राहीम कुरैशी           
आजादी की नई रोशनी / डॉ. गार्गीशरण मराल       
केशव शरण की दो गज़लें                 
जिन्दगी एक कशिश  / डॉ. मणी मनेश्वर साहू '' ध्येय ''    
साक्षात रुप को  / डॉ. रामशंकर चंचल            
मो. कासिम खॉन तालिब की दो गज़ल़ें          
डॉ. सुशील गुरु के पांच छंद
व्यक्तित्व
कठिन जीवन के कुटिलकाल में / डॉ. जगन्नाथ '' विश्व ''    
पुस्तक समीक्षा
आनंद एवं प्रेरणा के स्त्रोत : बालगीत / डॉ. सुरेन्द्र कुमार जैन    
साहित्यिक -  सांस्‍कृतिक - गतिविधियाँ
आंचलिका का विमोचन एवं सम्मान समारोह        
सम्मान समरोह हेतु पुस्तके आमंत्रित           
ग्राम पंचायत भंडारपुर
ग्राम पंचायत करेला
ग्राम पंचायत गुमानपुर
वी ग्रुप आफ कम्‍पनीज

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें