इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

गुरुवार, 28 नवंबर 2013

वफ़ा प्‍यार से दूर

मनोज आजिज

वफ़ा प्यार से दूर ये शहर है
जवाँ पे कुछ, दिल पे कहर है

यूँ तो फरेबी की सफ़ेद धंधा है
फरिस्ते बनने की ढोंग शाम ओ सहर है

नि·लो सुब्ह जोश ओ उम्मीद लिए
हुयी रात लगती बेकार हर कसर है

गुजरो गर  जिन्दगी की तंग गलियों से
पाओगे फिर भी कुछ टेढ़ी नजऱ है

कत्ल ही तो होती है अरमानों की  यहाँ
मुर्झाया हुआ बेगुल सपनों का शजर है

हर शू अरबाबे दिल की कमी ' आजिज़'
जिओ खुद नहीं कोई शम्मे रहगुजर है
पता
इच्छापुर , ग्वालापारा
पोस्ट. आर. र्आई.  टी . जमशेदपुर. 14
( झारखण्ड )
फोन.0997368014

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें