इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

गुरुवार, 28 नवंबर 2013

आजादी की नई रोशनी


- डॉ. गार्गीशरण मिश्र '  मराल ' -

आज़ादी की नई रोशनी दिखा रही है दुनिया काली।
आज सिनेमा के स्वर में ही
गाती है हर एक अटारी,
आँख लगाना नहीं किसी से
मर जाना तुम मार कटारी।
सुन सुनकर संगीत मरण का जीती है जनता मतवाली।
नर का चरम विकास रह गया
खाना पीना मौज उड़ाना,
नारी के विकास की सीमा
नंदन की तितली बन जाना,
विद्युत के दीपों दिखती नवभारत की ज्योति निराली।
सत्य अहिंसा के मंदिर का
भूल रही है पथ आज़ादी,
खाकी के धागे से लटका
झूल रहा है गाँधीवादी,
मूल रही है सूख विटप की फूल रही है डाली - डाली।
आजादी की चमक कि  जिसमें
राम कृष्ण खो गये हमारे,
नानक, बुद्ध, मुहम्मद, ईसा
महावीर हैं हमसे न्यारे,
दिव्य ज्योतियाँ निगल विश्व में रात चली करने उजियाली।
पता 
1436 /बी सरस्वती कॉलोनी, 
चेरीताल वार्ड, जबलपुर - 482002  ( म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें