इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

फरवरी 2014 से अप्रैल 2014



सम्पादकीय 
'' चढ़ने '' का मतलब समझते हैं राजभाषा आयोग के सचिव ? 
न छत्‍तीसगढ़ी में कुछ सोचो  और न ही कुछ लिखो, बस
छत्‍तीसगढ़ी राजभाषा आयोग का झुनझुना बजाने में मस्‍त रहो ?
आलेख
मालवा के लोकगीतों में देशोत्थान के स्वर : संध्या विश्व
महापर्व -  शिवरात्रि : सुरेन्द्र वर्मा ( पूर्व प्राचार्य )
कहानी
अरमान : मुकुन्‍द कौशल
फूलो : कुबेर
व्यंग्य
आधुनिक आदर्श आदमी : वीरेन्द्र '' सरल ''
आजादी की लड़ाई : प्रमोद ताम्बट
लघुकथाएं
बदली हवा : राजेन्द्र मोहन द्विवेदी '' बन्धु ''
लघुकथाएं  : आकांक्षा यादव
गीत / गज़ल / कविता
गज़ल : मो.कासिम खॉन तालिब की गजल
कविता : जाग वोटर जाग : आनन्द तिवारी पौराणिक
दो गज़लें : जितेन्द्र सुकुमार
कविता :  फिर हिटलर : डॉ.थानसिंह वर्मा
नवगीत : दीवाली किस तरह मनाऊँ / डाँ. केवल कृष्ण पाठक
दोहा : लोकतंत्र का रास  / अशोक  '' अंजुम ''    
दो गज़लें : अल्पेश पी. पाठक  '' पागल ''
गज़ल : महेन्द्र राठौर
नवगीत : बिछुड़े प्रियतम की प्रीति पुरानी / विद्याभूषण मिश्र
सुरता
हिन्दी साहित्य के  अनन्य उपासक : प्रो. देवीसिंह चौहान
मनोज कुमार शुक्ल  '' मनोज  ''        
पुस्तक समीक्षा
कला की अपेक्षा चिंतन के लिए झकझोरती कहानियाँ
समीक्षक -  यशवंत मेश्राम         
फिल्म समीक्षा
हिन्दी फिल्मों के आइने में नक्सलवाद
समीक्षक - डॉ. पूनम रानी

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें