इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

गज़ल : महेन्‍द्र राठौर

बाजार में रुसवा को भी रुसवा न किया जाय
मर्यादा की अपनी कहीं सौदा न किया जाय
अब मिलने मिलाने का इरादा न किया जाय
आँखों से भी पीने की तमन्ना न किया जाय
जब आसमां पे झूट ने फैला दिया है जाल
इस हाल में ईमान का सौदा न किया जाय
नासमझों में बैठो तो क़दर जाती रहेगी
मेय्यार को अपने यूँ ही सस्ता न किया जाय
रस्ते में सियासत का जताना फज़ूल है
संसद में जा के हाथ को ऊँचा न किया जाय
पैग़ाम रक़ीबों  से है भेजा तबीब को
बीमार हमारा है तो अच्छा न किया जाय
फिर से मिला के हाथ मोहब्बत नहीं रहती
फिर आने जाने वास्ते रस्ता न किया जाय
अपनों ने मिटाया है तो मैं सोच रहा हूं
अपनों से दोबारा कभी रिश्ता न किया जाय
पता -  न्यू चंदनिया पारा
जांजगीर - 495668
मो. 09425541702

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें