इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

अल्पेश पी. पाठक '' पागल '' : दो गज़लें

आज दिल की कली कँवल हो गई।
बंद आँखों में इक शकल हो गई।।
आज तो .. बाग - बाग था लड़का
और लड़की गझल - गझल हो गई।।
निंद  में .. परियां को बुलाने में ..
कितनी दुश्वारी आजकल हो गई।
मैंने खुद को जरा संवारा है ...
मुश्किलें कितनी मेरी हल हो गई
छोटा था मैं तब दिल बड़ा सा था
आज दिल से बड़ी अकल हो गई
वक्त के ... कारसाझ हाथ से ...
मेरी दीवानगी ... कतल हो गई
क्या कहूँ मेरे देश को ''  पागल ''
दिल्ली अब दिल पे भी अमल हो गई 
( 2 )
चीख वो अखबार में छप आयेगी
आज की ताजा खबर कहलायेगी
चार दिन अफवाह दौड़ेगी जनाब
फिर तो यह आवाज़ भी थक जायेगी
चार पंछी .. एक पत्थर से गिरे ...
तब पुरानी सोच भी शरमायेगी
रात है तन्हाईयों के हाथ में
वक्त पे परछाईयाँ मर जायेगी
रंग अक्सर बात करतें है यहाँ
शायरी क्या - क्या गज़ब दिखलायेगी
पता -
अमि प्रभा, 101- ए 
डिवाइनगर, मेन रोड, 
माधव रेसीडेन्सी नजदीक, रैया चोकडी, 
राजकोट - 360005 मो. 8306105527    

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें