इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

जाग,वोटर जाग

आनन्द तिवारी पौराणिक
है वही डफली पुरानी,
और वही है राग।
होने लगी दस्तक घरों में,
जाग, वोटर जाग

                                   उड़ा करते थे जो खटोलों में।
                                    चल रहे पैदल, गली - मुहल्लों में।।
                                    नम्रता की मूर्ति बनते अनमने।
                                    दु:ख - दर्द, जनता का लगे बाँटने।।
                                                       हंसकर चोला पहनकर
                                                                      आ रहे हैं काग।
जाग, वोटर जाग
उद्देश्य सीमित वोट बस
पद, प्रतिष्ठा, नोट बस
फिर बन जाएंगे धृतराष्ट्र
रसातल में जाये चाहे राष्ट्र
जुगत लगाते - दिखाते सब्जबाग।
जाग, वोटर जाग
                                                                                       पता-
                                                                            श्रीराम टाकीज मार्ग
                                                                          महासमुन्द (छत्तीसगढ़)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें