इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

जाग,वोटर जाग

आनन्द तिवारी पौराणिक
है वही डफली पुरानी,
और वही है राग।
होने लगी दस्तक घरों में,
जाग, वोटर जाग

                                   उड़ा करते थे जो खटोलों में।
                                    चल रहे पैदल, गली - मुहल्लों में।।
                                    नम्रता की मूर्ति बनते अनमने।
                                    दु:ख - दर्द, जनता का लगे बाँटने।।
                                                       हंसकर चोला पहनकर
                                                                      आ रहे हैं काग।
जाग, वोटर जाग
उद्देश्य सीमित वोट बस
पद, प्रतिष्ठा, नोट बस
फिर बन जाएंगे धृतराष्ट्र
रसातल में जाये चाहे राष्ट्र
जुगत लगाते - दिखाते सब्जबाग।
जाग, वोटर जाग
                                                                                       पता-
                                                                            श्रीराम टाकीज मार्ग
                                                                          महासमुन्द (छत्तीसगढ़)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें