इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

दीवाली किस तरह मनाऊँ


डॉ. केवल कृष्ण '' पाठक '' 

जहां  द्वेष-भावना  प्रबल हो
जातिवाद   परचम   लहराए
ऊपर-ऊपर मीठा-मीठा बोले
अन्दर-अन्दर  छुरी  चलाए
ऐेसे  वातावरण  में कैसे
प्रेम ज्योति की ज्योत जलाऊँ
दीवाली किस तरह  मनाऊँ
                                  हर एक  को पैसे की चिंता
                                  देखने  में  लगता  है  साधु
                                 लूट- मार कर के  घर भरना
                                 धनपति  हो जाने  का जादू
                                 देश-प्रेम  की नहीं है चिंता
                                 ऐसे में  अब  कहां मैं जाऊँ
                                दीवाली किस  तरह मनाऊँ
चाहते सबका मालिक बनना
पर  अपने  को नहीं  जानते
अनुशासन  का  करें उलंघन
संयम  करना   नहीं  जानते
दूजे का घर   उजड़  रहा तो
कैसे  घर  में  खुशी  मनाऊँ
दीवाली  किस  तरह मनाऊँ
                           उग्रवाद  का  साम्राज्य  है
                           हत्या  को  ही  धर्म   मानते
                           दया-भाव न  मनमें किसी के
                           वे तो हत्या  करना जानते
                           ऐसा  ही  सब  हाल  देख के
                           विचलित  होकर  नीर बहाऊँ
                           दीवाली किस  तरह  मनाऊँ
झूठ - कपट सबके मन में है
नहीं  चरित्र निर्माण हो रहा
भारत  एक  महान  देश था
शनै-शनै अब प्राण खो रहा
युवा देश को गलत दिशा लें
तब  मैं कैसे   हर्ष  मनाऊँ
दीवाली  किस तरह मनाऊँ
                          अब तो सब  फीका लगता है
                          उत्सव  का   उत्साह  नहीं है
                          मन  में  कोई  खुशी न हो तो
                          लीक  पीटना   चाह  नहीं हैे
                          जब सबके  मन ज्योतित हों
                         तब  ही  मैं  दीवाली मनाऊँ
                         चहूं  दिशा  में दीप   जलाऊँ
                         अन्तर-मन   प्रकाश  फैलाऊँ 
पता - 
343/ 19, आनन्द निवास, 
गीता  कॉलोनी, 
जीन्द - 126102 हरियाणा
मोबाईल : 941638948

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें