इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

दीवाली किस तरह मनाऊँ


डॉ. केवल कृष्ण '' पाठक '' 

जहां  द्वेष-भावना  प्रबल हो
जातिवाद   परचम   लहराए
ऊपर-ऊपर मीठा-मीठा बोले
अन्दर-अन्दर  छुरी  चलाए
ऐेसे  वातावरण  में कैसे
प्रेम ज्योति की ज्योत जलाऊँ
दीवाली किस तरह  मनाऊँ
                                  हर एक  को पैसे की चिंता
                                  देखने  में  लगता  है  साधु
                                 लूट- मार कर के  घर भरना
                                 धनपति  हो जाने  का जादू
                                 देश-प्रेम  की नहीं है चिंता
                                 ऐसे में  अब  कहां मैं जाऊँ
                                दीवाली किस  तरह मनाऊँ
चाहते सबका मालिक बनना
पर  अपने  को नहीं  जानते
अनुशासन  का  करें उलंघन
संयम  करना   नहीं  जानते
दूजे का घर   उजड़  रहा तो
कैसे  घर  में  खुशी  मनाऊँ
दीवाली  किस  तरह मनाऊँ
                           उग्रवाद  का  साम्राज्य  है
                           हत्या  को  ही  धर्म   मानते
                           दया-भाव न  मनमें किसी के
                           वे तो हत्या  करना जानते
                           ऐसा  ही  सब  हाल  देख के
                           विचलित  होकर  नीर बहाऊँ
                           दीवाली किस  तरह  मनाऊँ
झूठ - कपट सबके मन में है
नहीं  चरित्र निर्माण हो रहा
भारत  एक  महान  देश था
शनै-शनै अब प्राण खो रहा
युवा देश को गलत दिशा लें
तब  मैं कैसे   हर्ष  मनाऊँ
दीवाली  किस तरह मनाऊँ
                          अब तो सब  फीका लगता है
                          उत्सव  का   उत्साह  नहीं है
                          मन  में  कोई  खुशी न हो तो
                          लीक  पीटना   चाह  नहीं हैे
                          जब सबके  मन ज्योतित हों
                         तब  ही  मैं  दीवाली मनाऊँ
                         चहूं  दिशा  में दीप   जलाऊँ
                         अन्तर-मन   प्रकाश  फैलाऊँ 
पता - 
343/ 19, आनन्द निवास, 
गीता  कॉलोनी, 
जीन्द - 126102 हरियाणा
मोबाईल : 941638948

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें