इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 26 फ़रवरी 2014

दीवाली किस तरह मनाऊँ


डॉ. केवल कृष्ण '' पाठक '' 

जहां  द्वेष-भावना  प्रबल हो
जातिवाद   परचम   लहराए
ऊपर-ऊपर मीठा-मीठा बोले
अन्दर-अन्दर  छुरी  चलाए
ऐेसे  वातावरण  में कैसे
प्रेम ज्योति की ज्योत जलाऊँ
दीवाली किस तरह  मनाऊँ
                                  हर एक  को पैसे की चिंता
                                  देखने  में  लगता  है  साधु
                                 लूट- मार कर के  घर भरना
                                 धनपति  हो जाने  का जादू
                                 देश-प्रेम  की नहीं है चिंता
                                 ऐसे में  अब  कहां मैं जाऊँ
                                दीवाली किस  तरह मनाऊँ
चाहते सबका मालिक बनना
पर  अपने  को नहीं  जानते
अनुशासन  का  करें उलंघन
संयम  करना   नहीं  जानते
दूजे का घर   उजड़  रहा तो
कैसे  घर  में  खुशी  मनाऊँ
दीवाली  किस  तरह मनाऊँ
                           उग्रवाद  का  साम्राज्य  है
                           हत्या  को  ही  धर्म   मानते
                           दया-भाव न  मनमें किसी के
                           वे तो हत्या  करना जानते
                           ऐसा  ही  सब  हाल  देख के
                           विचलित  होकर  नीर बहाऊँ
                           दीवाली किस  तरह  मनाऊँ
झूठ - कपट सबके मन में है
नहीं  चरित्र निर्माण हो रहा
भारत  एक  महान  देश था
शनै-शनै अब प्राण खो रहा
युवा देश को गलत दिशा लें
तब  मैं कैसे   हर्ष  मनाऊँ
दीवाली  किस तरह मनाऊँ
                          अब तो सब  फीका लगता है
                          उत्सव  का   उत्साह  नहीं है
                          मन  में  कोई  खुशी न हो तो
                          लीक  पीटना   चाह  नहीं हैे
                          जब सबके  मन ज्योतित हों
                         तब  ही  मैं  दीवाली मनाऊँ
                         चहूं  दिशा  में दीप   जलाऊँ
                         अन्तर-मन   प्रकाश  फैलाऊँ 
पता - 
343/ 19, आनन्द निवास, 
गीता  कॉलोनी, 
जीन्द - 126102 हरियाणा
मोबाईल : 941638948

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें