इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

गुरुवार, 22 मई 2014

अपराधी आंकड़े

अंकुश्री

राज्य की जनता डकैती, लूट-मार, राहजनी, हत्या आदि के कारण तबाह थी. प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार के कारण राज्य में अराजकता की स्थिति पैदा हो गयी थी.
तबाह हो रही जनता के लिये सरकार अपनी चिन्ता प्रदर्शित करने लगी. जनता के संतोष के लिये पुलिस और प्रशासन की गतिशीलता को खूब बढ़ा-चढ़ा कर प्रचारित किया जाने लगा. राज्य का रेडियो और जन सम्पर्क विभाग अपनी कार्यशीलता का ढि़ंढ़ोरा पीट रहा था. किसी दिन राज्य भर में पांच सौ अपराधी पकड़े जाने की सूचना प्रचाारित होती थी तो किसी दिन आठ सौ की.
अपराधियों की गिरफ्तारी का आंकड़ा रोज-रोज बढ़ता ही जा रहा था. कुछ ही दिनों में राज्य में गिरफ्तार कुल अपराधियों का आंकड़ा राज्य की कुल जनसंख्या से भी ऊपर पहुंच गया. लेकिन राज्य की जनता का भय कम नहीं हुआ. जनता का भय भी सरकारी आंकड़ों की तरह बढ़ता जा रहा था. क्योंकि जनता, जो पहले रात में भय खा रही थी, अब दिन में  लूटी जाने लगी थी.
पता -
सिदरौल, प्रेस कॉलोनी, पोस्ट बॉक्स 28, नामकुम, रांची-834 010

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें