इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 22 मई 2014

अपराधी आंकड़े

अंकुश्री

राज्य की जनता डकैती, लूट-मार, राहजनी, हत्या आदि के कारण तबाह थी. प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार के कारण राज्य में अराजकता की स्थिति पैदा हो गयी थी.
तबाह हो रही जनता के लिये सरकार अपनी चिन्ता प्रदर्शित करने लगी. जनता के संतोष के लिये पुलिस और प्रशासन की गतिशीलता को खूब बढ़ा-चढ़ा कर प्रचारित किया जाने लगा. राज्य का रेडियो और जन सम्पर्क विभाग अपनी कार्यशीलता का ढि़ंढ़ोरा पीट रहा था. किसी दिन राज्य भर में पांच सौ अपराधी पकड़े जाने की सूचना प्रचाारित होती थी तो किसी दिन आठ सौ की.
अपराधियों की गिरफ्तारी का आंकड़ा रोज-रोज बढ़ता ही जा रहा था. कुछ ही दिनों में राज्य में गिरफ्तार कुल अपराधियों का आंकड़ा राज्य की कुल जनसंख्या से भी ऊपर पहुंच गया. लेकिन राज्य की जनता का भय कम नहीं हुआ. जनता का भय भी सरकारी आंकड़ों की तरह बढ़ता जा रहा था. क्योंकि जनता, जो पहले रात में भय खा रही थी, अब दिन में  लूटी जाने लगी थी.
पता -
सिदरौल, प्रेस कॉलोनी, पोस्ट बॉक्स 28, नामकुम, रांची-834 010

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें