इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

गुरुवार, 22 मई 2014

सबो सुख हे गांव म

गणेश यदु
आजा रे मोर संगवारी सबो सुख हे गाँव म।
सुरुज ललचय सुसताये बर, पीपर - बर छॉव म।।
गोकुल कस गाँव म, चरवाहा कन्हइया ए।
जसोदा कस महतारी, बर - कदम के छंइया ए।।
कसेली के दूध नई मिलय, सहर के मोल भाव म ...।
गाँव म हावय तीरिथ संगी गाँव म हावय धाम।
मंदिर , देवाला, गौरा - चंवरा, रमायन म राम।।
नंदिया - नरवा गंगा सांही, लछमी हे पटाव म ...।
गुंडरा हमर बाग - बगइचा, चातर ह मइदान।
खेती - किसानी जिनगी हमर, जंगल हे परान।।
गाँव म अपन - बिरान के सुन्दर हाव - भाव म ...।
कुकरा बासती के पाहटा, बिहनिया के बासी।
चिरई - चुरगुन के बोली अउ बुढ़वा के खांसी।।
अतका सुग्घर पुरवाही कहां पाबे काँव - काँव म ...।
सेवा करबो ए धरती के दया कभू त उलही।
दुख - पीरा सहिके रहिबो, घुरवा कस दिन बहुरही।।
मया - पीरित ल बिसर झनि तै पर के बरगलाव म।
आजा रे संगवारी सबो सुख हे गाँव म।

पता - सम्‍बलपुर, जिला - कांकेर पिन - 494635
 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें