इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 22 मई 2014

साफ ना - कामयाब हो चाहे

केशव शरण
साफ ना - कामयाब हो चाहे
देख लूं ख्‍वाब, ख्‍वाब हो चाहे

हो गया इश्‍क खूबसूरत से
जि़दगी अब खराब हो चाहे

लग गयी है तो लग गयी है लत
ज़हर माफिक शराब हो चाहे

नफरतों की ये पुस्तिका तो नहीं
आशिकी की किताब हो चाहे

हुस्न दिल में उतार लूंगा मैं
मुंह पे घूंघट, ऩकाब हो चाहे

दिल तो अपना सवाल रक्खेगा
दौर अब ला - जवाब हो चाहे

आंख से रात ओस टपकाऊं
खुश्क बासी गुलाब हो चाहे
- पता -
एस 2/ 564, सिकरौल,
वाराणसी - 221002
मोबाईल : 0 9415295137

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें