इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

गुरुवार, 28 अगस्त 2014

संपर्क

संपादक
सुरेश सर्वेद
कार्यकारी संपादक
डॉ. संजीत कुमार
सम्‍पादन सहयोगी
आचार्य सरोज व्दिवेदी, वीरेन्‍द्र बहादुर सिंह
सुनील कुमार '' तनहा ''
( सम्‍पादन पूर्णत: अवैतनिक एवं अव्‍यवसायिक )
मूल्य : 25.00 ( एक प्रति )
: सदस्यता शुल्क :
( एक वर्ष — एक सौ रूपये, दो वर्ष — दो सौ रूपये ,
आजीवन — दो हजार रूपये)
: मुख्य कार्यालय :
17 / 297, पूनम कालोनी, वर्धमान नगर,
शिव मंदिर के पास, राजनांदगांव ( छ.ग.)
मो. : 94241 — 11060
ई मेल : vicharvithi@gmail.com
editor.vicharvithi@gmail.com
दिल्‍ली क्षेेत्र के रचनाकारों से सविनय निवेदन
कि वे अपनी रचनाएं निम्‍न पते पर प्रेषित करें

दिल्‍ली स्थित कार्यालय डॉ.संजीत कुमार ( कार्यकारी संपादक)
5/345, त्रिलोकपुरी,दिल्‍ली - 110091
मोबाईल : 08882999518, 08800805614
ई मेल : sanjeetkumr1093@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें