इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 22 नवंबर 2014

वह दौर और

प्रो. फूलचंद गुप्‍ता 

वह दौर और था यह और दौर है
आ$गाज था जुदा अंजाम और है
परवाज़ के लिए कुहसार चुन, भले
नौमाश्क पंख हैं, अनजान ठौर है
मैदान तंग है, इख्तार दौड़ है
ईनाम में मिले बस एक कौर है
आकाश से उठा लाऊं जमीन पर
सूरज यहीं रहे फिलवक्त गौर है
तब भीख में मिला, अब छीन के मिले
तब धर्म तौर था, अब शस्त्र तौर है

B - 7, ANAND BUNGLOWS
Gayatri Mandir Road
Mahavirnagar
Himatnagar - 383001
S.K. Guj.india
M. 09426379499

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें