इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 22 नवंबर 2014

कुहरा छाया है

राजेन्‍द्र चौहान 

कुहरा छाया है
बूढ़े बरगद पर
छाया है
पूरी बस्ती पर छाया है
कुहरा छाया है।

झुनिया ने था
रखा थान पर
जो छोटा दियरा
चिरता कितना
उससे तम का
पाथर - सा हियरा
टूटे छप्पर पर छाया है
सूने आँगन में छाया है
कुहरा छाया है।

राजपथों पर तो
दीपों की
मालाएँ होंगी
अंधकार से अनजानी
मधुशालाएं होंगी
धूसर पगडंडी पर लेकिन
गिद्धों के पंखों - सा काला
कुहरा छाया है।

शीश - महल में
देख रहे जो
महफिल का मुजरा
नहीं पूछते
इस रधिया से
दिन कैसे गुजरा
भारी पलकों पर छाया है
धँसती आँखों पर छाया है
कुहरा छाया है।


पता - 
बी 226 राजनगर,
पालम , नई दिल्ली 110077

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें