इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 29 नवंबर 2014

क्‍वांर की हुई अवाई

प्रभुदयाल श्रीवास्‍तव 
मेघ छटे नभ
नीला नीला हुआ
क्वाँर की हुई अवाई,
राम - राम कर
कीचड़, पानी और
छतरी से छुट्टी पाई
ज्वांर लगे खेतों में
दद्दा लगे घूमने,
देख - देख कर धान
पिताजी खुश हो जाते।
तोड़ तोड़ कर लाते भुट्टे
रोज भूनते,
पुरा पड़ोसी वालों को
भरपेट खिलाते।
अम्मा कहतीं सुनो सुनो जी
बिना देर के,
देव उठनी के बाद
शिशि की करो सगाई।
दिखती सोयाबीन
चमकती सोने जैसी,
कैसी कैसी बात
महकती रहती मन में।
भौजी कहतीं मैं लूंगी
चाँदी की पायल,
भैया सपने लेकर
उड़ते नील गगन में।
दद्दा बोले - हँसिया लेकर
चलो खेत में,
मिल जुलकर सब करें
धान की शुरू कटाई।
मझले कक्का जाते
हरदिन सुबह बगीचे,
काकी लिये कलेवा
पीछे पीछे जातीं।
छोटे कक्का अब तक
बिन ब्याहे बैठे हैं,
मझली काकी हँसते हँसते
उन्हें चिड़ातीं।
दद्दा के माथे पर
चिंता की रेखायें,
नहीं कहीं से बात
अभी रिश्ते की आई।

12, शिवम सुन्दरम नगर,
छिंदवाड़ा ( म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें