इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 22 नवंबर 2014

समय किसी का

योगेन्‍द्र वर्मा ' व्‍योम ' 

क्या तुझको एहसास नहीं है
समय किसी का दास नहीं है
सबसे बड़ा वही है निर्धन
बेटी जिसके पास नहीं है
तट को छला सदा लहरों ने
सागर पर विश्वास नहीं है
जादू था उन गुब्बारों में
मुनिया देख उदास नहीं है
फज़र् निभा ना सके शूल भी
कलियों में उल्लास नहीं है
व्योम कह रही यही विफलता
मन से किया प्रयास नहीं है 
- पता  -
एल एल - 49, सचिन स्वीट्स के पीछे
दीनदयाल नगर, फेज़ - प्रथम
काँठ रोड, मुरादाबाद [उ.प्र.]
मो. 0941280598

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें