इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 22 नवंबर 2014

इच्‍छाधारी जीते हैं

अशोक ' अंजुम '

सब अपनी - अपनी किस्मत में
लिक्खी लाचारी जीते हैं,
सच्चे कुढ़ - कुढ़कर मरते हैं
और भ्रष्टाचारी जीते हैं।

जीवन के रस्ते बड़े कठिन
पल - पल भटकन, पल -पल उलझन,
परवत - परवत, जंगल - जंगल
ये किसे ढूँढता फिरता मन
दुनिया वन आदम$खोरों का
और कुशल शिकारी जीते हैं।

ये कैसी भागमभाग मची
ये कैसी आपाधापी है,
जो निकल गया वो साधु हुआ
जो पकड़ा गया वह पापी है,
जो छोटे हैं वे बेबस हैं
बस बड़े मदारी जीते हैं।

वे कालीनों पर चलते हैं
हम साँसों के बंजारे हैं,
हैं खून के छींटों से लथपथ
जो सत्ता के गलियारे हैं,
ये नागों वाली बस्ती है
कुछ इच्छाधारी जीते हैं।
-  पता -
सम्पादक : अभिनव प्रयास
गली - 2, चन्द्र विहार कॉलोनी
नगला डालचन्द, क्वारसी बाईपास, अलीगढ़ -202 002

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें