इस अंक में :

मनोज मोक्षेन्‍द्र का आलेख '' सार्थक व्यंग्य के आवश्यक है व्यंग्यात्मक कटाक्षों की सर्वत्रता '', डॉ. माणिक विश्‍वकर्मा '' नवरंग '' का शोध लेख '' हिन्दी गज़ल का इतिहास एवं छंद विधान: हिन्दी की'',रविन्‍द्र नाथ टैगोर की कहानी '' सीमांत '', मनोहर श्‍याम जोशी की कहानी '' उसका बिस्‍तर '', कहानी ( अनुवाद उडि़या से हिन्दी)'' अनसुलझी''मूल लेखिका:सरोजनी साहू अनुवाद:दिनेश कुमार शास्त्री, छत्तीसगढ़ी कहिनी'' फोंक - फोंक ल काटे म नई बने बात'' लेखक:ललित साहू' जख्मी', बाल कहानी '' अनोखी तरकीब''''मेंढक और गिलहरी'' रचनाकार पराग ज्ञान देव चौधरी,सुशील यादव का व्यंग्य '' मन रे तू काहे न धीर धरे'', त्रिभुवन पांडेय का व्‍यंग्‍य ''ललित निबंध होली पर'',गीत- गजल- कविता: रचनाकार :खुर्शीद अनवर' खुर्शीद',श्याम'अंकुर',महेश कटारे'सुगम',जितेन्द्र'सुकुमार',विवेक चतुर्वेदी,सुशील यादव, संत कवि पवन दीवान,रोज़लीन,डॉ. जीवन यदु, टीकेश्वर सिन्हा'गब्दीवाला, बृजभूषण चतुर्वेदी 'बृजेश', पुस्तक समीक्षा:'' इतिहास बोध से वर्तमान विसंगतियों पर प्रहार'' समीक्षा : एम. एम. चन्द्रा'', ''मौन मंथन: एक समीक्षा''समीक्षा''मंगत रवीन्द्र,''जल की धारा बहती रहे''समीक्षा : डॉ. अखिलेश कुमार'शंखधर'

शनिवार, 22 नवंबर 2014

शोक संवेदना या बधाई संदेश

प्रभुदयाल श्रीवास्‍तव 
अम्माजी के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ। शहर के बाहर था इसलिये आ नहीं पाया मैं श्याम भाई के निवास पर उनकी माताजी की मृत्यु पर शोक संवेदना प्रकट करने पहुंचा था किंतु उन्हें बहुत कष्ट था। आठ माह से पलंग पर पड़ी थीं। उन्होंने जबाब दिया।
हमेशा चहकती रहतीं थीं कितनी अच्छी बातें, सारगर्भित, कितना अपनापन? होता था उनकी बातों में कितना स्नेह । मैंने आगे कहना चाहा। परंतु बहुत हल्ला करतीं थीं दिन भर चाँव चाँव। वे बात काट कर बोले उस कमरे की तो बात ही और थी जिसमें वे पूजा करती थीं कितना पवित्र था वह कमरा अगरबत्ती की भीनी खुशबू घंटा आरती कितना मन भावन था वह दृश्य जब वह ? जय जगदीश हरे की  आरती गाती थीं। मैंने भावुक होकर कहा। वह तो ठीक है पर उस कमरे का उपयोग नहीं हो पा रहा था। अब पत्नी ने वहां ब्यूटी पार्लर खोल लिया है। वह बोले मैं अवाक था और शायद गलती पर भी शोक संवेदना के बदले बधाई संदेश देना था उनकी मां की मृत्यु पर।
12, शिवम सुन्दरम नगर,
छिंदवाड़ा ( म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें