इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 23 फ़रवरी 2015

समाचार है मुख्‍यपृष्‍ठ पर

योगेन्‍द्र वर्मा '' व्‍योम'' 

नुचे आज फिर तितली के पर
गश्त लगाता है सन्नाटा
कौन सुनेगा पीड़ा के स्वर
ढँूढा बहुत नहीं मिल पाये
कबिरा के वो ढाई आखर
रहने लगीं कोंपलें गुमसुम
माली बन बैठा सौदागर
धूप अनमनी बुझी - बुझी है
लड़ी आज सूरज से जी भर
नींद स्वप्न से तन्हाई में
रचा रही है आ स्वयंवर
व्योम क्षितिज के पार मिलेगा
जहाँ बना है पीड़ा का घर

पो.बा. - 139, ए एल - 49,
सचिन स्वीट्स के पीछे, दीनदयाल नगर
फेज़ - प्रथम काँठ रोड, मुरादाबाद (उ.प्र.)
मोबाईल: 0941280598

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें