इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 23 फ़रवरी 2015

पुरवा कहती है

सुधा शर्मा 

मन जलतरंग हुआ धड़कनों ने गुनगुनाया है
पुरवा कहती है, फिर  वसंत आया है।

          झूम रही वासंती, खिल उठी कलियॉं
          भ्रमरगीत गूँज रहे, बागों की गलियॉंं ।
          पी- पी कह पपीहे ने, शोर मचाया है
          पुरवा कहती है, फिर वसंत आया है।


मदिर - मदिर महुआ और बौर - बौर अमियॉं
मन सुवासित हो, करे अठखेलियॉं।
दहक उठे पलाश, तन अगन लगाया है
पुरवा कहती है,फिर वसंत आया है।

          यौवन फूटे धरा के, फिर जवानी आई है
          उमंग हिलाेर मारे, रुत सुहानी आई है।
          उमर मतंग हुई मन बौराया है
          पुरवा कहती है, फिर वसंत आया है।

नाच उठे अंग - अंग, सपनों ने ली अंगड़ाई
वासंती चुनरी ओढ़, नूतन छवि है पायी।
नव जीवन पा वसुधा ने, प्रणय गीत गाया है
पुरवा कहती है फिर वसंत आया है।

          रचो कोई गीत नया, आज गीतकार तुम
          मनोभाव बॉंध - बॉंध, करो सुर - श्रृंगार तुम
          सप्‍त - सुर जगाओ मॉं, ऋतुराज आया है।
          वासंती कहती है, फिर वसंत आया है।

पता - 
ब्राम्‍हण पारा, राजिम 
जिला - रायपुर (छ.ग.)
मोबा. 9993048495

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें