इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 23 फ़रवरी 2015

पुरवा कहती है

सुधा शर्मा 

मन जलतरंग हुआ धड़कनों ने गुनगुनाया है
पुरवा कहती है, फिर  वसंत आया है।

          झूम रही वासंती, खिल उठी कलियॉं
          भ्रमरगीत गूँज रहे, बागों की गलियॉंं ।
          पी- पी कह पपीहे ने, शोर मचाया है
          पुरवा कहती है, फिर वसंत आया है।


मदिर - मदिर महुआ और बौर - बौर अमियॉं
मन सुवासित हो, करे अठखेलियॉं।
दहक उठे पलाश, तन अगन लगाया है
पुरवा कहती है,फिर वसंत आया है।

          यौवन फूटे धरा के, फिर जवानी आई है
          उमंग हिलाेर मारे, रुत सुहानी आई है।
          उमर मतंग हुई मन बौराया है
          पुरवा कहती है, फिर वसंत आया है।

नाच उठे अंग - अंग, सपनों ने ली अंगड़ाई
वासंती चुनरी ओढ़, नूतन छवि है पायी।
नव जीवन पा वसुधा ने, प्रणय गीत गाया है
पुरवा कहती है फिर वसंत आया है।

          रचो कोई गीत नया, आज गीतकार तुम
          मनोभाव बॉंध - बॉंध, करो सुर - श्रृंगार तुम
          सप्‍त - सुर जगाओ मॉं, ऋतुराज आया है।
          वासंती कहती है, फिर वसंत आया है।

पता - 
ब्राम्‍हण पारा, राजिम 
जिला - रायपुर (छ.ग.)
मोबा. 9993048495

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें