इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

रविवार, 17 मई 2015

मई 2015 से जुलाई 2015

कहानी 
फूलो ( पुरस्‍कृत कहानी) - कुबेर
रोपवे (पुरस्‍कृत कहानी )- मनोज कुमार शुक्‍ल ' मनोज '
अरमान ( पुरस्‍कृत कहानी) - मुकुन्‍द कौशल
फॉंस (पुरस्‍कृत कहानी) - सनत कुमार जैन
तारनहार ( छत्‍तीसगढ़ी कहानी ) - धर्मेन्‍द्र '' निर्मल ''
घरेलू पति - राजा सिंह
लघुकथा
दो लघुकथाएं : अशोक गुजराती
पुस्‍तक समीक्षा
माई कोठी के धान: समीक्षक - हीरालाल अग्रवाल
माई कोठी के धान: लेखक की समीक्षा पर विनम्र प्रतिक्रिया
माई कोठी के धान की समीक्षा एवं लेखक की विनम्र प्रतिक्रिया पर विचार वीथी के नियमित समीक्षक यशवंत मेश्राम की टिप्‍पणी 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें