इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 24 अगस्त 2015

तीजा

नंदकुमार साहू

सिव-सती के मया पिरित ल, बेद-पुरान ह गाथे।
सबे जनम म पारवती ह, सिवजी ल पति पाथे।
अमर पति पाए बर देवी, करिस तपसिया भारी।
तब ले अपन सुहाग के खातिर, तीजा रहिथें नारी।

तिजिहारिन मन करत रहिथें , तिजहारा के अगोरा।
पन्दरा दिन के अघुवाही, हो जाए रहिथे जोरा।
सुरता आथे ननपन के, सखी-सहेली के नाँव।
नंदिया-तरिया, घाट-घठउंदा, बर-पीपर के छाँव।

ओरी-पारी आगू-पाछू सबके तिजहारा आ गें।
जम्मों तिजिहारिन मन ए दे, मइके म जुरियागें।
दूज के रतिहा किंजर-किंजर के करू भात ल खाथें।
तीज के निरजला बरत ल, हँसी-खुशी रहिजाथें।

चउथ मुंधेरहा चरबज्जी ले, चाबे लगे मुखारी।
नहाखोर नवा लुगरा पहिने, पूजा के करे तियारी।
पारबती अऊ सिव ल सुमर के, मन के साध पुराथे।
मया-दुलार मिले मइके ले, तीजा के चिनहा पाथे।

ठेठरी, खुरमी, सूजी, सिंघाड़ा, ले, भर जाथे थारी।
अरपन करके भोग लगाथें फेर करथें फरहारी।
तिजिहारिन दीदी-बहिनी के, दुएच् टप्पा बोल हे।
मइके के चेंदरा अऊ, पसिया घला अमोल हे।
0
ग्राम - मोखला
पोष्‍ट - भर्रेगांव, जिला - राजनांदगांव (छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें