इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 24 अगस्त 2015

तीजा के लुगरा

      थनवार निषाद '' सचिन ''

सावन निकलिस अउ बुलकिस हे, राखी के तिहार,
तीजा लेबर आवत होही, मोर मइके के लेनहार।
                    भतीजा ला देखे बर, नयना हा तरसत हे,
                    भउजी संग गोठियाय बर, हिरदे हा हरसत हे।
गजब दिन मा मिलही, दाई के मया-दुलार...
गंगाजल अउ भोजली मन, नंगते के खिसियासी,
                  चिटठी - पाती काबर नई भेजे, कहिके वो ओरियाही।
                 घुना कीरा कस मँय हर होगेंव, आ के मँय ससुरार...
कइसे मनाहूँ मोर धनी ला, रिसहा वोकर बानी,
निंदई-कोड़ई के दिन-बादर हे, कर ही आनाकानी।
                 अंगठी गीनत दिन काँटत हँव, पल हा लगे पहार...
                 भउजी संग गोठियाय बर, हिरदे हा हरसत हे।

ग्राम - ढोढि़या ,पो. - सिंघोला
जिला - राजनांदगांव ( छ.ग.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें