इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

सोमवार, 24 अगस्त 2015

खादी के टोपी

कोदूराम दलित

पहिनो खादी टोपी भइया !
अब तो तुम्हरे राज हे
खादी के उज्जर टोपी ये
गाँधी जी के ताज हे ।
    आजादी के लड़िन लड़ाई
    पहिरिन ये ला वीर मन
    गोरा मन के टोप झुकाइन
    बलिदानी रणधीर मन ।

भइस देश आजाद बनिस
बंचक खातिर गाज ये
पहिनो खादी टोपी भइया !
अब तो तुम्हरे राज हे...
    सब्बो टोपी ले उज्जर
    सुग्घर सिर के सिंगार ये
    ये ला अपनाओ सब झिन देथे
    सुख शांति अपार ये ।

आधा गज कपड़ा खादी के
हमर बचाइस लाज ये
पहिनो खादी टोपी भइया !
अब तो तुम्हरे राज हे...
    बन जाथे कनटोप इही हर
    बन जाथे सुग्घर थैली
    नानुक साबुन मा धो डारो
    जब ये हो जावय मैली ।

येकर महिमा बता दिहिस
हम ला गाँधी महराज हे
पहिनो खादी टोपी भइया !
अब तो तुम्हरे राज हे...
    येकर उज्जर पन हमार मन के
    मन उज्जर कर देथय
    येकर निरमलता हमार मन मा
    निरमलता भर देथय ।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें