इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शनिवार, 29 अगस्त 2015

प्राण शर्मा की दो लघुकथाएं

अधभरी गगरी

        कमल मेरा नया - नया दोस्त बना है। दसवीं में तीन बार फेल है। बेकारी में घूम रहा है लेकिन शेखी बघारना उसकी फितरत है। कल मिला तो उसने बेझिझक होकर अपने नाना, दादा, मामा और चाचा के पुल बाँधने शुरू कर दिए। कहने लगा- दोस्त, मेरे नाना जी इतने सुन्दर थे कि अंग्रेज युवतियाँ गोपियों की तरह उनके आगे- पीछे डोलती फिरती थीं। जब उनका ब्याह हुआ था तो एक अंग्रेज युवती ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। मेरे दादा जी की योग्यता का कहना ही क्या! वह अंग्रेजी बोलते थे तो अंग्रेज वाह - वाह कह उठते थे। कई अंग्रेज उनके मित्र थे। सबका यही कहना था, अंग्रेजी बोलने में आपका जवाब नहीं है। अंग्रेज होते हुए भी हम आपका मुकाबला नहीं कर सकते हैं। मेरे मामा जी तो रईस थे, रईस। कई राजे - महाराजे और नवाब उनका हुक्का भरते थे। उनसे मिलना जुलना वे अपना सौभाग्य समझते थे। मेरे चाचा जी ने अंग्रेजी, संस्कृत और इतिहास में तीन - तीन एम. ए. कर रखे थे। सरकारी विभाग में सीनियर एड्वाएज़र थे। पांच हजार उनकी मंथली इनकम थी। मैं तब की बात कर रहा हूँ जब भारत के दो टुकड़े नहीं हुए थे। पंजाब का गवर्नर उनकी योग्यता का सिक्का मानता था। मेरे दोस्त, मेरे नाना, दादा हों या मामा, चाचाए खूबियाँ ही खूबियाँ थी उनमें।
- बहुत खूब, कोई अपनी खूबी भी सुनाए मेरे दोस्त।
        मेरी बात सुनते ही कमल बहाना बना कर खिसक गया।

2 वक्‍त वक्‍त की बात
 
         सरिता अरोरा की देवेन्द्र साही से जान - पहचान कॉलेज के दिनों से है। कभी दोनो में एक - दूसरे के प्रति प्यार जागा था। आज देवेन्द्र साही का फिल्म उद्योग में बड़ा नाम है। उसने एक नहीं, तीन - तीन हिट फिल्में दी हैं। उसकी फिल्में साफ़. सुथरी होती हैं। सरिता अरोरा के मन में जागा कि क्यों न वह अपनी रूपवती बेटी अरुणा को हेरोइन बनाने की बात देवेन्द्र साही से कहे। मन में इच्छा जागते ही उसने मुम्बई का टिकेट लिया और जा पहुँची अपने पुराने मित्र के पास।
         देवेन्द्र साही सरिता अरोरा के मन की बात सुनकर बोला - ये फिल्म जगत है। इसके रंग - ढंग निराले हैं। सुनोगी तो दांतों तले उंगलियाँ दबा लोगी। यहाँ हर हेरोइन को पारदर्शी कपड़े पहनने पड़ते हैं।
कभी - कभी तो उसे निर्वस्त्र ........
- तो क्या हुआ, हम सभी कौन से वस्त्र पहन कर जन्मे थे? सभी इस संसार में नंगे ही तो आते हैं .......।
         सरिता अपनी बात कहे जा रही थी और देवेन्द्र साही सोचे जा रहा था कि यह वही सरिता अरोरा है जो अपने तन को पूरी तरह से ढक कर कॉलेज आया करती थी।
3 Crackston Close,
Coventry, CV2 5EB, UK
pransharma@talktalk.net

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें