इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

सोमवार, 16 नवंबर 2015

नवम्‍बर 2015 से जनवरी 2015


आलेख
ढोला - मारू की कथा - महावीर सिंह गेहलोत
छत्‍तीसगढ़ की लोकगाथा: लोरिक चंदा - डॉ. सोमनाथ यादव
कहानी
जेल - मुंशी प्रेमचंद
कर्जा - रवि श्रीवास्‍तव 
सड़ांध - डॉ. संजीत कुमार
पीपल का पेड़ - डॉ. गीता गीत
दर्द - रवि मोहन शर्मा
विस्‍थापित - कामिनी कामायनी
जिजीविषा- ज्‍योतिर्मयी पंत
आग - श्‍वेता मिश्रा
अर्धांगिनी - सीमा सचदेव
छत्‍तीसगढ़ी कहानी
बनिहार - दीनदयाल साहू
व्‍यंग्‍य
अपना - अपना लोकतंत्र - शशिकांत सिंह '' शशि ''
गीत / गजल / कविता / मुक्‍तक
' अंकुर ' की दो गज़लें
होना चाहिए था ( गजल )- जगन्‍नाथ ' विश्‍व'
मालुम था ( गजल) - जगन्‍नाथ ' विश्‍व'
दो गज़लें : इब्राहीम कुरैशी
अशोक ' अंजुम ' की पांच गज़लें
उसकी अतलांत गहराईयों में ( कविता ) : रोजलीन
करवा चौथ ( कविता ) : मुकेश गुप्‍ता
शुल से पत्‍थर नुकीेले ( कविता) : प्रभुदयाल श्रीवास्‍तव
बारिस ( कविता ): हरदीप बिरदी
मुक्‍तक : पं. गिरिमोहन गुरू ' नगरश्री' 
डॉ.पीसीलाल यादव की  तीन छत्‍तीसगढ़ी गीत
पुस्‍तक समीक्षा
छत्‍तीसगढ़ी उपन्‍यास '' दिन बहुरिस '' म लोक संस्‍कृति

समीक्षा : देवचंद बंजारे
साहित्यिक - सांस्‍कृतिक गतिविधियां
इंटरनेट की दुनिया में तेजी से पांव पसार रही है हिन्‍दी: यादव
कुमारी स्‍मृति और राहुल वर्मा की पुस्‍तक का विमोचन

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें