इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

सोमवार, 9 नवंबर 2015

उसकी अतलांत गहराईयों में

रोजलीन

जिससे
करती हूं प्रेम
टूट - टूट कर
लगता है
कि जैसे
उससे प्रेम नहीं करती
जिसके लिए
तड़प कर
रो पड़ती हूं
किसी भी क्षण
कई बार
लगता उससे प्रेम नहीं करती
जिसे नजर
देखने भर के लिए
कितनी ही नदियां
कितने ही प्रांत
कितने ही देश - द्वीप
कर सकती हूं पार
लगता है कि जैसे -
उसी के निकट बैठ
हो जाती हूं
रिक्त
एकांत
और
खो जाता है वही
फिर मुझसे
जिसके लिए उठाए इतने जतन
कि वो
बन जाता है मेरे लिए
एक अनदेखी - अनछुई
अदभुत, अपूर्व
कोई विराट दुनिया
जिसके भीतर
बिना यह सोचे
पूरी ताकत से कूद जाती हूं मैं
कि मुझे
तैरना भी आता है
कि नहीं ...
मैं खोजती हूं
उसकी अतलांत गइराईयों में
उसके ही अस्तित्व का
एक निर्मल कोना
जहां बैठकर लेनी है मुझे
चैन की एक लंबी नींद

पता
13 बी, एच.ए.पी. मधुबन
करनाल (हरियाणा)132037
मोबा. 09467011918 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें