इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

शनिवार, 6 फ़रवरी 2016

ऐसी कोई चट्टान नहीं

विनय शरण सिंह

बूढ़े माँ . बाप का होता जहाँ सम्मान नहीं
जहाँ पर बेटियों के होंठों पे मुस्कान नहीँ

जिसकी दीवारों से लग के सिसकते हैं रिश्ते
वो किसी और का होगा ए मेरा मकान नहीं

हम तो रिश्तों को तौलते नहीं हैं पैसों से
ये मेरा घर है दोस्तो कोई दुकान नहीं

आओ मिल बैठ के फुरसत से बात करते हैं
कोई मसला नहीं है जिसका समाधान नहीं

अब के इस दौर में ख़ुश रह के बसर कर लेना
है तो मुश्किल नहीँ पर इतना भी आसन नहीं

करके देखिए तो मुहब्बत में बड़ी ताक़त है
जिसको पिघला न दे ऐसी कोई चट्टान नहीं

खैरागढ़
’ ’ ’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें