इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : ( आलेख )तनवीर का रंग संसार :महावीर अग्रवाल,( आलेख )सुन्दरलाल द्विजराज नाम हवै : प्रो. अश्विनी केशरवानी, ( आलेख )छत्‍तीसगढ़ी हाना – भांजरा : सूक्ष्‍म भेद- संजीव तिवारी,( आलेख )लील न जाए निशाचरी अवसान : डॉ्. दीपक आचार्य,( कहानी )दिल्‍ली में छत्‍तीसगढ़ : कैलाश बनवासी ,( कहानी )खुले पंजोंवाली चील : बलराम अग्रवाल,( कहानी ) खिड़की : चन्‍द्रमोहन प्रधान,( कहानी ) गोरखधंधा :हरीश कुमार अमित,( व्‍यंग्‍य )फलना जगह के डी.एम: कुंदन कुमार ( व्‍यंग्‍य )हर शाख पे उल्लू बैठा है, अन्जामे - गुलिश्ता क्या होगा ?: रवीन्‍द्र प्रभात, (छत्‍तीसगढ़ी कहानी) गुरुददा : ललितदास मानिकपुरी, लघुकथाएं, कविताएं..... ''

बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

सैंया भये कोतवाल

डॉ.पीसी लाल यादव

कोढ़िया, अलाल,दलाल, आज होगे मालामाल।
ऊँखरे बपौती होगे हे सबो, संगी सरकारी माल।।
कोनो बेचे ग गांजा - दारु,
कोनो लिखत हे सट्टा।
सरकारी जमीन के उन ला,
मिलगे हे फोकटे पट्टा।
गदहा डरुहात हे सब ला, ओढ़े बघवा के खाल।
कोढ़िया - अलाल - दलाल, आज होगे मालामाल।।
राजनीति अब सेवा कहाँ?
बनगे हे चोखा धंधा।
हर्रा लगे न फिटकिरी,
घर बइठे मिलय चंदा।
थाना - पुलुस घलो हे ऊंखरे, सैंया भये कोतवाल।
कोढ़िया - अलाल - दलाल, आज होगे मालामाल।।
मंत्री मन के आगू - पिछू,
घूमे ले बाढ़त हे भाव।
अधिकारी - करमचारी ऊपर,
जमत हे ठउका परभाव।
धमका - चमका के चम्मच, झारा होवत सबे लाल।
कोढ़िया - अलाल - दलाल, आज होगे मालामाल।।
गाँव - सहर म जेहू - तेहू,
धरलिन नेता के बाना।
करनी म कुछ खास नहीं,
सिरतोन होवत हे हाना।
गदहा खीर खावत मनमाने, घोड़वा के हाल - बेहाल।
कोढ़िया - अलाल - दलाल, आज होगे मालामाल।।

पता
साहित्य कुटीर
गंडई
जिला - राजनांदगांव (छत्‍तीसगढ़ )
मो.नं.: 09424113122

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें