इस अंक में :

इस अंक में पढ़े : शेषनाथ प्रसाद का आलेख :मुक्तिबोध और उनकी कविताओं का काव्‍यतत्‍व, डॉ. गिरीश काशिद का शोध लेख '' दलित चेतना के कथाकार : विपिन बिहारी, डॉ. गोविंद गुंडप्‍पा शिवशिटृे का शोध लेख '' स्‍त्री होने की व्‍यथा ' गुडि़या - भीतर - गुडि़या ', शोधार्थी आशाराम साहू का शोध लेख '' भारतीय रंगमंच में प्रसाद के नाटकों का योगदान '' हरिभटनागर की कहानी '' बदबू '', गजानन माधव मुक्तिबोध की कहानी '' क्‍लॅड ईथरली '' अंजना वर्मा की कहानी '' यहां - वहां, हर कहीं '' शंकर पुणतांबेकर की कहानी '' चित्र '' धर्मेन्‍द्र निर्मल की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' मंतर '' अटल बिहारी बाजपेयी की गीत '' कवि, आज सुनाओ वह गान रे '' हरिवंश राय बच्‍चन की रचना ,ईश्‍वर कुमार की छत्‍तीसगढ़ी गीत '' मोला सुनता अउ सुमत ले '' मिलना मलरिहा के छत्‍तीसगढ़ी गीत '' छत्‍तीसगढ़ी लदका गे रे '' रोजलीन की कविता '' वह सुबह कब होगी '' संतोष श्रीवास्‍तव ' सम ' की कविता '' दो चिडि़यां ''

शुक्रवार, 5 फ़रवरी 2016

प्रविष्टियां आमंत्रित

हिंदी साहित्य को अपने निस्वार्थ योगदान से समृद्ध कर रहे सभी साहित्यकारों के प्रति हमे आदर है। इसी सोच के तहत हमारी संस्था स्व अमित शर्मा साहित्य कला एवं क्रीड़ा समिति,बुरहानपुर द्वारा 11000 रु का पुरस्कार आरम्भ करने का निर्णय लिया है। प्रति वर्ष यह नकद पुरस्कार स्व अमित शर्मा की स्मृृति में अखिल हिंदी साहित्य सभा अहिसास, नासिक तथा स्व अमित शर्मा साहित्य कला एवं क्रीड़ा समिति, बुरहानपुर के संयुक्त गठन समिति द्वारा चयनित रचनाकार को अक्टूबर के अंतिम सप्ताह में नासिक में प्रदान किया जाएगा।
चयन समिति के निम्न नियमो का पालन अनिवार्य है ताकि समिति को कार्य सम्पन्न करने में सुविधा हो
1. रचनाकार की कम से कम दो किताबे प्रकाशित हो।
2. अनुवादित साहित्य का भी स्वागत है।  मात्र अनुवाद हिंदी में हो।
3. रचनाकार भारतीय हो।
4 . अखिल हिंदी साहित्य सभा अहिसास का सदस्य हो।
5. चयनित सदस्य के आवागमन का खर्च रेलवे का स्लीपर कोच संस्था वहन करेगी।
6. चयन समिति को भेजी जाने वाली प्रविष्टि के साथ परिचय सलग्न हो।
प्रविष्ठियां
प्रविष्ठियां निम्न लिखित पते पर डाक द्वारा दिनांक 19 अगस्त  तक सादर आमंत्रित है।
पता -
सुबोध मिश्रा
शाम्भवी बंगलो, मंगलमूर्ति नगर, कैनाल रोड, नासिक रोड - 422101
अधिक जानकारी के लिए 0721- 2520145,09422759050,08103205176
पर संपर्क करे
snavyaeditor@gmail.com

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें