इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

बुधवार, 10 फ़रवरी 2016

तइहा के जीनीस नंदा गे रे

गणेश यदु  
तइहा के बात ल बइहा लेगे, नवां जमाना आ गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        पहाती समे ढेंकी के बजना,
        मूसर म जी मेरखू ल कूटना।
        जांता के घरर - घरर - घर करना,
        टेड़ा - पाटी म पानी पलोना।।
पनिहारिन के मुचमुच हंसना कहां गंवागे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        सड़क तीर खेत खार कहां गे,
        गाँव के खरिखाडांड़ कहां गे।
        चरांगन - चारा ल कोन ह खा गे,
        चरवाहा - राउत कहां परागे।
कसेली के दूध अउ दही कहां बोहागे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        छकड़ा गाड़ी, घांटी नंदागे,
        कुआं के टेड़ा - पाटी नंदागे।
        ढेंकी जाता - घानी ह नंदागे,
        गिल्ली , भौंरा अउ बांटी नंदागे।।
नानपन के खेलकूद ल कोन ह चोरागे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        मोटयारी के खोपा ह नइहे,
        खोपा म दावना, गोंदा नइहे।
        बेनी फुंदरा - फीता ह नइहे,
        मितान बदई के जोखा नइहे।
गोदना गोदइया अउ गवइया नंजरागे रे
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
       चुटकी, पइरी, पैजन अउ टोंड़ा,
        ऐंठी, पहूंची, ककनी - बनुरिया।
       सुंररा, सूंता, पुतरी - नवलखिया,
       फुली, खिनवा, ढार, बारी - पनिया।
ए गहना - गूठा के पहिरइया मन कहां गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        हरेली परब म पान खोंचइया,
        भितिया म पुतरी  - पुतरा बनइया।
        बांस खाप के गेंड़ी बनइया,
        रेंहची अउ गेंड़ी के चघइया।
डंडा पचरंगा तुये के खेलइया कहां गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        तीजा के लेनदार ह कहां गे,
        बेटी बर मया - दुलार कहां गे।
        सगा माने के रिवाज कहां गे,
        तीजा - पोरा म पियार कहां गे।
लइका मन के नंदिया बइला कहां भगा गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        गुरतुर पपची, बोबरा - अनअइरसा,
        ठेठरी, खुरमी, सोंहारी बरा।
        अंगाकर - चीला, फरा दूधफरा,
        खाये पाबे अब काखर करा।
अइसन कलेवा - मिठई ल बनइया कहां गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
        परवार बर पीरा - मया नइहे,
       दाई - ददा संग रहइया नइहे।
       गोरसी तीर बइठइया नइहे,
       किस्सा - कहिनी के बतइया नइहे।
लोक संस्किरिति - संस्कार के देवइया कहां गे रे।
मोला बड़ संसो होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
मोला बड़ संसों होथे जी, तइहा के जिनीस नंदागे रे।।
पता:
संबलपुर
जिला - कांकेर (छत्तीसगढ़) 494 635
मोबा. नं. 07898950591

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें