इस अंक में :

डॉ. रवीन्‍द्र अग्निहोत्री का आलेख '' हिन्‍दी एक उपेक्षित क्षेत्र '' प्रेमचंद का आलेख '' साम्‍प्रदायिकता एवं संस्‍कृति '' भीष्‍म साहनी की कहानी '' झूमर '' सत्‍यनारायण पटेल की कहानी '' पनही '' अर्जुन प्रसाद की कहानी '' तलाक '' जयंत साहू की छत्‍तीसगढ़ी कहानी '' परसार '' गिरीश पंकज का व्‍यंग्‍य '' भ्रष्‍ट्राचार के खिलाफ अपुन '' कुबेर का व्‍यंग्‍य '' नो अपील, नो वकील, घोषणापत्र '' गीत गजल कविता

शनिवार, 28 मई 2016

नव संवत्सर आ गया

मनोज कुमार शुक्‍ल '' मनोज ''

नव संवत्सर आ गया, खुशियाँ लाया द्वार ।
सभी लोग खुश हो रहे, दें बधाई उपहार ।।

ब्रम्हा ने जब सृष्टि की, रचना की प्रारम्भ ।
नव संवत्सर है गढ़ा, सतयुग से आरम्भ ।

चैत्र शुक्ल प्रतिपदा को, आता है नव वर्ष।
धरा प्रकृति मौसम हवा, मन को करता हर्ष ।।

नवमी में जन्मे प्रभु ,अवध पुरी के राम ।
राजपाट कर बन गये, आदर्शों के धाम ।।

नगर अयोद्धा में रहा, हरषित हर पल छिन ।
राज तिलक प्रभु का हुआ, नव रात्रि शुभ दिन ।।
 
सूर्यवंश के राज्य से, रोशन हुआ जहान ।
चक्रवर्ती राजा बने, विक्रमादित्य महान ।।

राज्य सुरक्षा में निपुण, चर्चित रहे सम्राट ।
शक हूणों औ यवन से, रक्षित किया यह राष्ट्र।।

प्रजा पालक थे अमर, न्याय प्रिय सरताज ।
विक्रम सम्वत् नाम से, गणना का आगाज ।।

माँ देवी की अर्चना, वंदन औ फलाहार ।।
आज दिवस गुड़ि पाड़वा, चेटी चंड त्योहार ।

पता-
58, आशीष दीप उत्तर मिलोनीगंज जबलपुर ( म.प्र.)

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें